blogid : 875 postid : 705262

मेरे प्रियतम जागरण जंक्शन

Posted On: 18 Feb, 2014 Others में

KADLI KE PAAT कदली के पातचतुर नरन की बात में, बात बात में बात ! जिमी कदली के पात में पात पात में पात !!

R K KHURANA

81 Posts

3239 Comments

मेरे प्रियतम जागरण जंक्शन (यादों के लम्हों से प्रेमाभिव्यक्ति)

राम कृष्ण खुराना

मेरे प्रियतम जागरण जंक्शन,

यह मेरा सौभाग्य है कि मैं आज फिर तुम्हे प्रेम पत्र लिख रही हूँ ! क्योंकि यह पत्र मैं अपनी जान को लिख रही हूँ ! अपनी सांसों को लिख रही हूँ ! अपनी धडकन को लिख रही हूँ ! अपने प्यार को लिख रही हूँ ! लगभग चार साल हो गए ! मुझे याद है, हम पहली बार 2010 मे मिले थे ! पहले मैंने तुम्हें शायद कहीं देखा था ! एक आकर्षण था ! लेकिन मैं इतना गौर न कर पाई ! दो तीन दिनों बाद फिर तुमसे मुलाकात हुई ! थोडा सा तुम्हारी तरफ आकर्षित हुई लेकिन ज्यादा ध्यान नहीं दिया ! परंतु तीसरी बार …… हाँ, तीसरी बार जब तुम मुझे मिले…… जब तीसरी बार मैने तुम्हें देखा, तुम्हें जाना, तुम्हें समझा तो अपने आप को रोक न पाई ! न रोक पाई तुम्हें अपना बनाने से ! न रोक पाई अपने आप को तुम्हें अपनाने से !

प्रिय जागरण जंकशन, तुमने आमंत्रण भेजा था ! मैंने तुम्हारा आमंत्रण स्वीकार किया ! मैंने तुम्हें दिल से चाहा ! दिल से पूजा ! दिल की गहराईयों से प्यार किया ! मैं सौभाग्यशाली रही ! तुमने भी मुझे अपनाया ! अपना बनाया ! अपने सीने से लगाया ! उस समय तुम एक फिल्मी गीत गुनगुना रहे थे –

बा-होशो हवास मैं दीवाना, ये आज वसीयत करता हूँ,

ये दिल ये जाँ मिले तुमको, मैं तुमसे मुहब्बत करता हूँ !

मेरे अराध्य ! मैं सुन्दर हूँ इसलिए तुमने मुझे प्यार नहीं किया वरन तुम्हारा प्यार पाकर मैं सुन्दर हो  गई ! मैं निखर गई ! मैं संवर गई ! जैसे मेरी केंचुली उतर गई ! मुझमें एक नई चमक आ गई ! तुम्हारे प्यार को पाकर मेरे पैर जमीन पर नहीं पडते थे ! लोग कहते हैं न कि वह पुरुष सौभाग्यशाली होता जो किसी स्त्री का पहला प्यार होता है और वो स्त्री सौभाग्यशाली होती है जो किसी पुरुष का आखिरी प्यार होती है ! तुम्हारा प्यार पाना मेरा सौभाग्य था ! मैं पागल सी इधर उधर ढोलती फिरती थी ! भागती फिरती थी ! हिरनी की तरह ! हर समय तुम्हारा ख्याल ! हर समय तुम्हारी याद ! हर समय तुमसे मिलन की आस ! बस तुम ही तुम थे मेरे ख्यालों में, मेरी सांसों में, मेरी धडकन में ! तुम को देखे बिना एक पल भी चैन न पडता था ! जिस दिन तुम से मिलन नहीं होता था तो ऐसा लगता था जैसे आज दिन ही नही निकला ! सूरज ही नहीं उगा ! सारा दिन बैचैन ! खोई खोई सी ! न ठीक से खाती थी न ठीक से सोती थी ! बस हर पल हर क्षण जागरण जंकशन !

तुझे क्या खबर तेरी याद ने मुझे किस तरह से सता दिया !

कभी अकेले में हंसा दिया, कभी महफिल में रुला दिया !!

मेरे देवता ! मुझे दिन, तारीख, महीना, सन सब कुछ याद है ! हाँ सब याद है ! 18 मार्च, सन 2010 का वो दिन याद है जब हमारा पहला मिलन हुआ था ! तुमने मुझे सिर आँखों पर बिठा लिया था ! मेरे प्यार का उत्तर अपने प्यार से दिया था ! मैं धन्य हो गई ! मैं तुम्हारे प्यार में सराबोर हो गई ! तुम्हारे प्यार के समुद्र में डूबती चली गई, डूबती चली गई ! मुझे कुछ भी होश नहीं था ! बस सिर्फ तुम ही तुम ! फिर तो मुलाकातों का सिलसिला चल निकला ! हमारी मुलाकातें बढती गई ! मैं तुम हो गई तुम मैं हो गए ! तुम मुझे प्यार से आर. के. बुलाते थे और मैं तुम्हें जे. जे. कहने लगी ! जे जे ! कितना प्यारा नाम ! कितनी मिठास ! कितना रस ! बस दिल करता हर समय तुम्हें देखती रहूँ ! हर समय तुम्हारे पास बनी रहूँ ! हर क्षण तुमसे बातें करती रहूँ ! हर समय तुम्हारा नाम जपती रहूँ !

मेरे सरताज ! तुम्हारा परिवार भी बहुत बडा है ! तुमने मुझे अपने परिवार से मिलवाया था ! सब को पता था कि मैं तुम्हारी हूँ ! इसलिए सब ने मुझे भरपूर प्यार दिया ! भरपूर सम्मान दिया ! भरपूर आदर दिया ! मुझे सब कुछ याद है ! मैं कुछ भी नहीं भूली !

मेरे प्यारे जे जे ! मुझे बहुत से लोगों ने बहकाने की कोशिश की ! तुम्हारे बारे में कई अनाप शनाप बातें कहकर ! लेकिन मेरा प्यार सच्चा था ! कई लोगों ने तुम्हे लेकर मेरे उपर कई लांछन लगाए, कई आरोप लगाए ! मेरे और तुम्हारे प्यार को मैच फिक्सिंग का नाम दिया ! लेकिन तुमने सब का मुँहतोड जवाब देकर उनकी बोलती बन्द कर दी ! मैं जब भी तुम्हारे बारे में सोचती हूँ तो मेरा दिल मेरे काबू में नहीं रहता ! मेरी ज़ुबान बन्द हो जाती है तब मेरी आत्मा तुम से बात करती है ! मेरे कान सुन्न हो जाते हैं तब मेरी सांसे तुम्हारी आवाज़ सुनती हैं ! मैं अपने होश में नहीं रहती तब मेरी धडकन तुम्हारे गीत गाती है ! तुम्हारा प्यार ही मेरे जीने की वजह बन गई थी ! किसी ने कहा भी है –

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है !
कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है !
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से,

तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है !!

मेरे सपनों के राजा ! जब मुझे तुम्हारा पहला प्रेम पत्र मिला था तो मानों पूरा का पूरा बसंत ही जाग उठा था ! बहारें फूल बरसाने लगीं थी ! दिल में लाखों फुलझडियां झिलमिलाने लगी थीं ! मेरे दिल ने वो पत्र पढा ! सांसों ने उसके एक एक शब्द को आत्मसात किया ! धडकनो ने उसे जिया ! पत्र का एक एक शब्द मेरी नस नस में उतरता चला गया उतरता चला गया ! मेरे रक्त की हर बूँद में समा गया ! पत्र के अंत में तुमने मेरे लिए लिखा था –

जिन्दगी की बहार तुमसे है !

मेरे दिल का करार तुमसे है !!

यूँ तो दुनियाँ मे लाखों हैं हसीन,

मगर क्या करूँ मुझको प्यार तुमसे है !!

प्रिय जे जे ! मैं वही बनना चाहती थी जो तुम चाहते थे कि मैं बनूँ ! मैं वही पाना चाहती थी जो तुम चाहते थे कि मैं प्राप्त करूँ ! मैंने भी वही चाहा ! वही सोचा ! वही किया ! मैने अपनी सारी ताकत लगा दी ! सब कुछ न्यौछावर कर दिया तुम्हारे प्यार में ! तुम्हें पाने के लिए ! और मैं वही बन गई जो तुम मुझे बनाना चाहते थे ! उस मकाम को पा लिया जो तुम मुझे देना चाहते थे ! अव्वल ! सर्वोत्तम ! प्रथम ! मैं उस मुकाम पर पहुँच कर बहुत खुश थी, प्रसन्न थी, खुशी से पागल ! मेरा एक सपना पूरा हुआ ! तुम भी खुश थे ! बहुत खुश ! तुमने भी अपनी खुशी का इज़हार किया था ! तुमने मुझे एक सुन्दर उपहार दिया था ! तुम्हें मालूम है कि मुझे लिखने पढने का बहुत शौक है ! मैं सारी दुनिया को देखना जानना चाहती हूँ ! तुमने सारी दुनिया मेरी झोली में भर दी थी ! इसलिए तुमने उपहार में मुझे लैपटाप दिया ! जागरण जंक्शन, तुम पे कुर्बान मेरा तन-मन-धन !

मेरे राजकुमार ! यह प्रेम पाती लम्बी होती जा रही है ! बस मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहती हूँ कि –

तू दिल से ना जाये तो मैं क्‍या करूँ ?

तू ख्‍यालों से ना जाये तो मैं क्‍या करूँ ?

कहते है ख्‍वावों में होगी मुलाकात उनसे,

पर नींद ही न आये तो मैं क्‍या करूँ  ?

प्यार ……..उसकी ओर से…. जो तुम्हें दिल से चाहती है……….

राम कृष्ण खुराना

426-ए, माडल टाउन ऐक्सटेंशन,

कृष्ण मन्दिर के पास,

लुधियाना (प्ंजाब)

9988950584

khuranarkk@yahoo.in

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग