blogid : 16014 postid : 742968

आत्मबल

Posted On: 19 May, 2014 Others में

Dil Ki Aawaazvakt vakt kee baat hai chal rahi meri kalam in panno par ye vakt kee karamaat hai

ANJALI ARORA

67 Posts

79 Comments

मुझ पर शब्दों के वार न कर
मैं सह जाऊँगी ,
मैं तो एक नदी हूँ
कांटो पर भी
बह जाऊँगी ,
तुझे मिलेगा न सकूँ
मुझे जलाने के बाद
मैं तो जल कर भी
मिट्टी कहलाउंगी ,
जीवन बिताने के लिए
बहुत कुछ सहा है मैंने
तू दे गर जहर
तो वो भी पी जाऊँगी ,
तेरी मर्जी है तो दे
गम के पैमाने
हर पैमाने के बाद भी मैं
मुस्कुराऊंगी ,
कलम कर दे
मेरा सर तू
तलवार से
आत्मसम्मान पाने के लिए
फिर भी नज़र आऊँगी ,
तुझे सजा दिलाना
मेरा शौक नहीं
पर हर एक नज़र का
सम्मान पाऊँगी ,
मुझे नीचा दिखाने वाले
तेरा शुक्रिया
आज हूँ जितनी नीचे
उतनी ऊपर जाऊँगी
हर एक नज़र में
नज़र आऊँगी
हर एक नज़र में
नज़र आऊँगी |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग