blogid : 16014 postid : 745321

दस्तूर

Posted On: 24 May, 2014 Others में

Dil Ki Aawaazvakt vakt kee baat hai chal rahi meri kalam in panno par ye vakt kee karamaat hai

ANJALI ARORA

67 Posts

79 Comments

न खुशियों का न गमों का कसूर होता है
जिंदगी में आएंगे दोनों ही ये ही दस्तूर होता है
न अपनों का न बेगानों का कसूर होता है
जिंदगी में वो ही मिलेगा जो रब को मंजूर होता है|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग