blogid : 799 postid : 705863

शैतान से संवाद (सन्दर्भ केजरीवाल)

Posted On: 19 Feb, 2014 Others में

सत्यमेव .....हास्य व्यंग्य एक्सप्रेस

kmmishra

29 Posts

532 Comments

एक मनचला सियासी,हुस्न का शैदायी,जंगल के रास्ते जा रहा था । एक खूबसूरत जवान ऊॅंटनी को देखकर उसका मन मचल गया । जवानी किसी भी जीव में हो मन को विचलित कर ही देती है । जवान का मन मचल गया । वह ऊॅंटनी का बोसा लेना चाहता था । ऊॅंटनी की लम्बी गरदन बबूल के शाखों को छू रही थी । जवान कोई तरीका सोचने लगा,जिससे वह ऊॅंटनी का बोसा ले सके ।
जवान के तेज दिमाग में बिजली कौंधी । उसने बबूल की एक डाल तोड़ कर ऊॅंटनी को दिखाया । शाख को  देख कर ऊॅंटनी ने गरदन झुका ली और बबूल के पत्ते खाने लगी । जवान ने इस बीच अपने मन की मुराद हासिल कर ली ।
ऊॅंटनी तो सहज भाव से फिर बबूल की ऊंची डालों पर पत्तियॉं चरने लगी । जवान का मन पश्चाताप से विचलित हो गया । उसने दुःखी स्वर में  कहा – लहौल-बिला-कूवत,मेरे सिर शैतान सवार हो गया था ।
संयोग से शैतान भी पास ही खड़ा था । उसने कहा – बरखुरदार,क्यों मुझे बदनाम करते हो । ये हिकमत (उपाय) तो मेरे फरिश्ते भी नहीं सोच सकते थे । तुम तो मेरे भी बाप निकले ।
साहबान,थोड़ा कहा बहुत समझना,चिट्ठी को तार समझना । हाथ कंगन को आरसी क्या,पढ़े लिखे को फारसी क्या । बात को अफसाना बनाने में बंदा माहिर नहीं है । अर्ज ये कि सियासत के जंगल में ऐसे तमाम जवान डरावनी आवाज में गरज रहे हैं,जिन्हें देख कर हैरानी होती है । इन सियासी जीवों की पैदाइश कैसे और कहॉं से हुयी जीवशास्त्री अभी इस पर रिसर्च कर रहे हैं । नतीजा कब आयेगा कहा नहीं जा सकता । हमारे मुल्क में लोकतंत्र की तबाही के बाद आयेगा या पहले इस बारे में विभिन्न मत है । कुछ शोधकर्ताओं का मत है  कि इन सियासी प्राणियों का जन्म अमेरिकी फोर्ड फाउंडेशन से हुआ । कुछ कहते हैं कि इनके विकास में रमन मैग्सेसे पुरूस्कार का योगदान है । कुछ शोधकर्ता इन प्राणियों के उद्भव और विकास में अरब देशों के अकूत धन का योगदान मानते हैं । कुछ विशेषज्ञ इन्हें मजहबी जेहादियों की देन समझते हैं । कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि लालपट्टी के जंगल से निकलकर माओवादियों का अग्रिम दस्ता दिल्ली में दाखिल हो गया है । जंगल में रहने वाले माओवादियों के हाथों में  हथियार है और दिल्ली में दहाड़ रहे तथाकथित माओवादियों की तीखी जबान धारदार नेजे का काम करती है ।
बहरकैफ,शोधकर्ताओं की दलील हम  उन्हीं के हाल पर छोड़ देते हैं । इन प्राणियों का मकसद लोकतंत्र की इमारत गिराकर देश का हाल मिस्र और नेपाल जैसा करना है । बकौल शायर –
शैख ने मस्जिद बना मिस्मार बुतखाना किया ।
पहले इक सूरत भी थी अब साफ वीराना किया ।
1623734_703727852980745_682239790_n

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग