blogid : 20079 postid : 1101858

थपथपाए पीठ कोई अच्छा लगता है

Posted On: 24 Sep, 2015 Others में

socialJust another Jagranjunction Blogs weblog

krishna kumar pandey

50 Posts

141 Comments

थपथपाये पीठ कोई अच्छा लगता है,
झूठी हो तारीफ कोई अच्छा लगता है,
खुद मे भरे विकार, हैं गन्दे मेरे विचार,
दोष जमाने का देना अच्छा लगता है।
थपथपाये पीठ कोई अच्छा लगता है।।

कैसे कह दूं कि मेरे मन में पाप नहीं,
सच है यारों कि मन मेरा साफ नहीं,
छोटी है मेरी सोच, दिमाग में है मोच,
देखना पड़ोसी दुखी अच्छा लगता है।
थपथपाये पीठ कोई अच्छा लगता है।।

पैदा हुआ था मैं बजी खुशियों में ताली,
अब पराये धन से मनती होली दिवाली,
जैसे मिले संस्कार, वैसा करुं व्यवहार,
यही बच्चों को सिखाना अच्छा लगता है।
थपथपाये पीठ कोई अच्छा लगता है।।

मैं धर्म नही जानता, मैं कर्म नही मानता,
मजहबी उपदेशों में झूठ सच हूं छानता,
मैंने सीखा कत्लेआम, हुआ धर्म बदनाम,
करूं नफरत बुराई मुझे अच्छा लगता है।
थपथपाये पीठ कोई अच्छा लगता है।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग