blogid : 25599 postid : 1387657

कोरोना काल और समस्याएं

Posted On: 19 Jun, 2020 Common Man Issues में

Social IssuesJust another Jagran junction Blogs weblog

Sushil Pandey

34 Posts

4 Comments

*राम जाने किस बात का गुरूर है उसे?*
*हाँ शायद! सियासत का शुरुर है उसे!*
*ये हमेशा देती कहां है किसी का साथ?*
*पर रहेगी हमेशा विश्वास जरूर है उसे।।*
ज्योति का 1200 किमी साईकिल चलाकर मौत को मात देते हुये अपने पिता को लेकर गांव जाना निश्चित ही सराहनीय था, साथ ही लानत है उन राजनेताओं पर भी जो सराहना करते नही थक रहे हैं, भले ज्योति का ये काम काबिलेतारीफ था, पर था जनप्रतिनिधियों की असफलता का नतीजा ही।
तो विधायक जी आप को क्या लगता है साईकिल देकर आपने अपनी निष्क्रियता पर पर्दा डाल दिया? नही जनाब ऐसा बिल्कुल नही हुआ और ऐसा करके भारतीय इज्जत को और बट्टा लगा दिया आपने अंतरराष्ट्रीय समाज मे।
हमारे पास 10 करोड़ लोग ऐसे हैं जो रात को भूखे पेट सोते है तो क्या आपकी सरकार आनन-फानन मे आधी रात को Lockdown लगाने के पहले ये सोच नही पाई की कल से उन 10 करोड़ भूखे सोने वाले भारतीय नागरिकों का क्या होगा, अच्छा आप लोग तो सिर्फ हिंदू मुस्लिम ही समझते है तो कम से कम 7-8 करोड़ हिन्दूओं की चिंता कर लेते विधायक जी।
चलो मान भी लिया की ज्योति को साईकिल चलाने का शौक ही था तब भी क्या आप अपनी बिटिया को अत्यंत शौकीन होने के बाद भी उसे 1200 किमी जाने की इजाजत देते?
हाँ ठीक है आप की बेटी व्ही.आई.पी. की बेटी थी पर क्या ज्योति किसी की बेटी नही थी नेताजी?
कितनी बेशर्मी से उसे प्रेक्टिस करवाने की बात कह दिया आपने, सच अपनी बेटी के बारे ऐसा सोचकर भी आपका कलेजा नही फट गया होता माननीय विधायक जी?
चलिए ज्योति को तो साईकिल चलाने का शौक था पर उसका क्या जिसे बैलगाड़ी मे एक बैल की अनुपस्थिति मे खुद को बैल की जगह नधना पड़ा अपने परिवार को घर पहुंचाने के लिए?
चलिए ज्योति को तो साईकिल चलाने का शौक था पर उसका क्या जो अपने चार साल के बच्चे की लाश को लेकर सड़क पर पैदल चलते हुए घर पहुंचा?
आप माने या न माने श्रीमान पर आपके दल के संस्कारो मे ये रिवाज सा पनप गया है! आपने उसे साईकिल इसलिए दे दिया क्योंकि आपकी नजर मे वो इंसान थी ही नही, आप की नजर मे तो ये लोग आंकड़े हैं जो कोरोना वाइरस के दौरान प्रभावित थे असल मे।
कैसे संसार के सबसे बड़े लोकतंत्र का मुखिया अनायास ही आधी रात को ऐसा निर्णय ले लेता है? ये जानते हुए भी कि देश की कुल आबादी का 95 प्रतिशत हिस्सा गरीब हैं जो कोरोना के उनके करीब पहुंचने से पहले भूख से दम तोड़ सकते हैं।
याद नही वो आये तुझको,दिल नही क्यों तेरा पसीजा,*
ठीक नही थे बिरला-अडानी और नही थे कोई मखीजा।*
*राम राम तो करते हो, पर मानवता तो तनिक नही है,*
*राम मंदिर की मौतों मे तो राम का भी था फटा कलेजा।।*
हम जब तक जीते-जागते इन इंसानों को इंसान नही समझने लगते तब तक कुछ नही हो सकता इस देश का। श्रीमान बताइये तो 95 प्रतिशत गरीब जनता और 10 करोड़ भूख से बिलबिलाते लोगो के साथ हमे विश्वगुरु का तमगा अगर मिल भी जायेगा तो क्या हम उस तमगे को सर पर लगाकर दुनिया को दिखा पायेंगे हम?
डिस्क्लेमर : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण जंक्शन किसी दावे या आंकड़ों की पुष्टि नहीं करता है।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग