blogid : 9819 postid : 12

गाली देने से पहले फायदे देखो

Posted On: 24 May, 2012 Others में

ummeedJust another weblog

Saurabh Sharma

16 Posts

17 Comments

हमारा नेता कैसा हो, मनमोहन अंकल जैसा हो. कुछ दिनों में शहर की सडक़ों पर इस तरह के नारे आप सभी को सुनने को मिल सकते हैं. पेट्रोल दाम बढ़ाने में केंद्र सरकार ने जो अपनी दूरगामी सोच दिखाई है, इससे तो इकॉनोमिक क्राइसिस झेल रहे अमेरिका और यूरोपीय देश भी ईष्र्या कर सकते हैं. आप सभी सोच रहे होंगे, जब पूरा देश पेट्रोल के दाम बढ़ाने पर सरकार को गालियां दे रहा है, तो हम उनकी तारीफों के पुल क्यों बांध रहे हैं. आइए, बताते हैं इस उत्तम फैसले से आम जनता को कितने तरह का फायदा होने जा रहा है.

जाम मुक्त शहर
पेट्रोल की कीमतें बढऩे के बाद एक बात तय है कि शहरों में लगने वाले जाम से निजात मिलने लगेगी. कैसे? भाई साहब सरकार के आदेशों के बाद सभी अपनी गाडिय़ों के ऊपर ‘फॉर सेल’ के बोर्ड लगा दिए हैं. साथ ही कइयों ने नई गाडिय़ों के अपने ऑर्डर तक कैंसल कर दिए हैं. जिससे लोगों को ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलेगी और ट्रैफिक पुलिस का काम भी कम होगा.

बचत ही बचत
सरकार के इस फंडे से लोगों की उजाड़ जेब नोटों की हरियाली से फिर आबाद हो जाएगी. मेरठी पांच से दस हजार रुपए पेट्रोल में खर्च करता है. आपकी इस मेहरबानी से गाड़ी नहीं चलाएगा तो वो पैसा बचत में रहेगा और उन नोटों को देखकर सरकार के गुण गाएगा. इसके अलावा गाड़ी रहने पर उसकी सर्विस भी जरूरी है, तो उसकी भी बचत होगी. यानि टेंशन फ्री.

पॉल्यूशन फ्री
शहरों से गाडिय़ां कम हो जाएंगी, पेट्रोल कम खर्च होगा. हमें शुद्ध वातावरण भी मिलेगा. सरकार की इस मेहरबानी से लोगों को सडक़ पर नाक और चेहरे पर रुमाल रखकर नहीं चलना पड़ेगा. पर्यावरण शुद्ध रहने से अस्थमा और हार्ट पेशेंट को परेशानी कम होगी और पॉल्यूशन से बीमार होने वाले लोगों में कमी आएगी. डॉक्टर और दवा में लगने वाले खर्च में कमी आएगी.

पैदल या साइकिल
गाडिय़ां चलाते-चलाते पेट भी निकल गया था और शुगर तक हो गया था. डॉक्टर्स का हमेशा से कहते रहे है? कि साइकिलिंग और वॉकिंग सेहत के लिए फायदेमंद है. अब सबका स्वास्थ्य ठीक हो जाएगा. सरकार को बता दें कि शहर में टू और फोर व्हीलर चलाने वाले 20 परसेंट लोगों ने साइकिल के ऑर्डर दे दिए हैं. कई साइकिल निर्माता कंपनी मनमोहन एंड कंपनी को ब्रांड एंबेस्डर बना सकती हैं.

एक्सीडेंट नहीं
हर रोज एक दर्जनों तक एक्सीडेंट से घायल होते हैं. पेट्रोल के दाम बढऩे से एक्सीडेंट में काफी कमी आएगी. गाडिय़ां कम होने और चलाने से लोगों को सुरक्षित सडक़ें मिलेगी. इससे पैदल चलने वालों के साथ उन लोगों को राहत मिलेगी जो नियमों के मुताबिक गाड़ी चलाते हैं. साथ ही वो माता पिता भी आपको दुआ देंगे, जिनके बच्चे छोटी उम्र में बाइक और कार चलाने की जिद कर रहे हैं.

पार्किंग की जगह मिलेगी
दुकानों के सामने वाहन खड़े करने पर रोजाना ही नोंकझोंक होती रहती है. मेरठ का प्रशासन मनमोहन सरकार को जल्द ही धन्यवाद पत्र भेज सकता है. क्योंकि पार्किंग न होने से जनता कहीं भी अपनी गाड़ी पार्क कर देती है. जिससे कई तरह परेशानी होती हैं. कई बार तो गोली-गलौच तक होती है. लॉ एंड ऑर्डर बिगड़ता रहा है. रेट बढ़ते रहे तो शांति व्यवस्था भी बनी रहेगी.

पब्लिक ट्रांसपोर्ट
रेट बढऩे से जनता पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ज्यादा यूज करेगी. सरकार की इस कृपा से ट्रेन और सडक़ों पर दौडऩे वाली खाली बसें भी भरेंगी. सिटी के लोगों को यहां पर भी बचत होगी. जहां लोगों को पेट्रोल में प्रतिमाह 5 हजार रुपए खर्च करने पड़ रहे थे वहीं पब्लिक ट्रांसपोर्ट में कम खर्च पर अपनी मंजिल तक समय पर पहुंच जाएंगे.

लफंगई बंद होगी
शहर की सडक़ों पर कार और बाइक पर आवारागर्दी, लफंगई, अय्याशी करने वाली टोली नहीं दिखाई देगी. महिलाओं की चेन छिनने में भी कमी आ सकती है. क्योंकि महंगे पेट्रोल से कोई भी ये इस काम के लिए अपनी बाइक का यूज नहीं करेगा. पेट्रोल बढऩे से जो काम पुलिस नहीं कर पाई वो केंद्र सरकार ने कर दिखाया. जय हो मनमोहन जी की.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग