blogid : 4937 postid : 132

मेरी अर्थी - मेरी चाहत

Posted On: 11 Sep, 2011 Others में

Laharमै और मेरी तन्हाई .....

Pankaj Kumar

28 Posts

340 Comments


सजाओ महफ़िल दुनिया वालो ,

अर्थी मेरी आज उठने वाली है |


इस राह पें न बरसाओ पानी यें बादल

मेरी अर्थी इसी राह से जाने वाली है |


सजाओ महफ़िल दुनिया वालो ,

अर्थी मेरी आज उठने वाली है |


मत रो ए  साकी  ,

वरना डूब जायेगा यें मैखाना |


सुखा दिए है मैंने अपनी आँखों के आंसू ,

साकी तू इन्हें फिर से ना भिगोना |


ना चमका तु बिजलियाँ  यें बादल ,

सुना है गैरों से  !

मेरी अर्थी पर फूल वो भी चढाने वाली है |


सजाओ महफ़िल दुनिया वालो ,

अर्थी मेरी आज उठने वाली है |


ना खेल हवाओं से ए बादल ,

वो तेरे शोर से डरने वाली है |


ठहर भी जा अब ए बादल ,

मेरी अर्थी को देखने वो भी आने वाली है |


सजाओ महफ़िल दुनिया वालो ,

अर्थी मेरी आज उठने वाली है |



तु क्यों रोती है साकी ,

दुनिया तो एक मैखाना है |


जहाँ हर कोई बस एक दीवाना है ,

ना कर प्यार तु कभी !

प्यार तो बस एक अफसाना है |


सजाओ महफ़िल दुनिया वालो ,

अर्थी मेरी आज उठने वाली है |


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग