blogid : 19759 postid : 1320959

एक पत्नी द्वारा लिखा गया भावुक पत्र

Posted On: 26 Mar, 2017 Others में

engineering is my profession , blogging is my passiontodays problems

lawakushkurmi

18 Posts

32 Comments

************ प्रिय पति देव *************

 

नहीं कहती आपसे की चांद-तारे तोड़कर लाओ,
पर जब आते हो, एक मुस्कान साथ लाया करो!

 

 

नहीं कहती के मुझे सबसे ज्यादा चाहो,
पर एक नजर प्यार से तो उठाया करो!

 

 

नहीं कहती, बाहर डिनर कराने ले जाओ ,
पर एक पहर साथ बैठ के तो खाया करो !

 

 

नहीं कहती कि काम में हाथ बटाओ मेरा ,
पर कितना करती हुं, देख तो जाया करो !

 

 

नहीं कहती के हाथ पकड़ के चलो मेरा ,
पर कभी दो कदम साथ तो आया करो!

 

 

यूंं ही गुजर जायेगा जिंदगी का सफर भागते भागते ,
एक पल थक के साथ बैठ जाया करो!

 

 

नहीं कहती के कई नामों से पुकारो
एक बार फुर्सत से “सुनो” ही कह जाया करो!

 

 

नहीं कहती आपसे की चांंद-तारे तोड़कर लाओ,
पर जब आते हो एक मुस्कान साथ लाया करो!

 

 

 

नोट : यह लेखक के निजी विचार हैं, इसके लिए वह स्‍वयं उत्‍तरदायी है। संस्‍थान का कोई लेना-देना नहीं है।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग