blogid : 14088 postid : 617448

आज माँ का श्राद है,,,उनको नमन करते हुवे इतना ही कहूँगा ,,,

Posted On: 2 Oct, 2013 Others में

Sarm karo sarmJust another weblog

laxmikadyan

64 Posts

3 Comments

कहने को अनपढ़ थी पर कमाल थी
हिसाब में मेरी माँ बेमिसाल थी

आँखे पढती थी अख़बार की तरह
पूरे कुनबे की माँ देखभाल थी

मरने से पहले माँ किस्मत बना गई
बेशक खुद जीते जी फटेहाल थी

बुखार हो या दर्द सबका इलाज़ था
माँ चलता फिरता एक अस्पताल थी

भूला नही हूँ कुछ भी सब याद है
माँ के बिन जिन्दगी जी का जंजाल थी

माँ कहने को तो थी लाजवाब पर
उलझा सा सुलझा सा एक सवाल थी

दिल से मन से चाहत में बेचैन
जैसे तू यूं ही माँ भी विशाल थी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग