blogid : 14088 postid : 603781

धर्म परीवर्तन कि आड मे खेला जा रहा हे खतरनाक खेल

Posted On: 17 Sep, 2013 Others में

Sarm karo sarmJust another weblog

laxmikadyan

64 Posts

3 Comments

यह खेल कुछ बहार से आये इसाई धर्म के परचारको दवारा रचा हुवा हे जो धर्म प्रचारक बन कर भारत मे आये हे ओर यह पिछडी जतियो व निमन वर्ग के लोगो को बडे परलोभन ओर हारी बिमारियो से निजात दिलवाने के आसवासन देकर इन निमन वर्गो मे सेध लगाकर हिन्दु लोगो का धर्म परीवर्तन करवा कर इसाई बना रहे हे / इन लोगो कि मन्सा से ही पता चलता हे की चाल नई हे नीती पुरानी जिस परकार पहले अग्रेज वय्पारी बन कर आये थे और देस के मालिक बन गए थे उसी परकार इन्होने देख लिया की हमेसा से ही हमारे देस में धर्म को विशेस महत्व दिया जाता हे और भारत मे मुस्लमान कोम को कटर माना जाता हे जो कभी अपनी धार्मिक रस्मो से ही नही चुकते तो उन का धर्मपरिवर्तन तो बहुत दूर की बात हे इसी परकार सिखधर्म के लोग भी अपने धर्म को बहुत जयादा अमहियत देते हे /इन लोगो ने अपने शोध में देखा की भारत में इसाई गिनती भर ही हे और इस देस मे इनका कोई वजुद नही हे / इन्होने यह भी देखा की यहा का हिन्दू धर्म बहुत ही कमजोर हे और ये लोग 36 करोड़ देवी देवताओ के उपासक तो हे ही साथ ही अपने दुःख तकलीफों और काया कस्ट निवारण के लिये गरुदवरो और दरगाहो व मजारो पर भी जाते हे साथ ही इन्होने यह भी देखा की हिन्दू व सिख धर्म के लोग अपने देवी देवताओ को छोड़ कर जब यहा के बाबाओ दवारा रचे गये पन्थो राधासवामी,धन धन सत्गरू , आसा राम, रामदेव, निरक्कारी, व अन्य इन लोगो को नामदान के नाम पर सभी धार्मिक रीती रिवाजो और परम्पराओ से हटा सकते हे और यहा का कानून इन्हे सिर्फ देखता रहता हे और कुछ नही कर पता इन लोगो की लोग दिखावे मे वही जाती व धर्म रह जाता हे और सरकार से मिलने वाली सभी जातीय और धार्मिक सुविधाए मिलती रहती हे ये लोग सरे आम अपने नये अपनाये हुवे धर्म अर्थार्त पंथ की रस्मे रिवाजे निभाते हे सरकार दवारा मिलने वाले परमान पत्रों मे नये जाती धर्म की बजाये पुरानी जाती व धर्म ही दिखाते हे / इस सब को मद्यय नजर रखते हुवे इसाई धर्म परचारको ने रननिति तेयार की और हमारे यहा के गरीब तबको पर हमला बोल दिया और इन्हे परलोबन दे कर अपने साथ मिलाना सरू कर दिया / आज हमारे देस मे ना जाने कितने ही गाओ और सहरो मे इन के कमुनिटी सेंटर चल रहे हे जो लोगो का धर्म परिवर्तन करवा कर इसाई बना रहे हे और फिर भी ये लोग सरकार से हिन्दू धर्म की जातियो के तहत लाब उठा रहे हे/ इनका एक सेन्टर जींद जिले के अलेवा गाव मे मिला हे तो दूसरा हिसार जिले के गाओ डंडूर मे इन्होने दलित ओड परिवारों पर काबिज होते हुवे इन्हे हिन्दू से इसाई बना लिया हे यहा बनाये गये चरच मे इन की पूजा अर्चना होती हे जो काफी दिनों से चल रहा हे गगवा लुदास में भी पहले इन के सेंटर और अम्बाला में भी ये लोग पाए गए थे / इन का बड़ा सेंटर जो अभी तयार हुवा हे यह जिला फतेहाबाद के भटू से नाथूसीरी चोपटा जाने वाले रास्ते पर देखा गया जहा ये सभी जगह के निम्न जातियों के लोगो को लाकर धर्म परिवर्तित करवाते हे / कई वर्स पहले भी ये मामला सामने आया था और हिन्दू लोगो ने पादरियों की पिटाई की थी और ये धर्म परिवर्तन करवाने वाले लोग भूमिगत हो गए थे लेकिन अब दुबारा ये जोर सोर से सकरिये हो गये हे / आज तक की इन की सभी गतिविधयो पर गोर करे तो यह धर्म की सवतनतरता की आड मे लोगो की मानसिकता को बदल कर एक सुन्योजित सडयनत्र के तहत होता नजर आ रहा हे / धर्म परिवर्तन हरियाणवी सस्कर्ति का हिसा नाही तो कभी था और नाही आज हे फिर ये केसे लोभ लालच या मज़बूरी बिच मे आगई जो लोगो को धर्म परिवर्तन के बारे सोचने पर मजबूर ही नही होना पड़ा वो दूसरा धर्म अपनाने के लिए तेयार हो गये / सिर्फ एक ही धर्म के लोगो का धर्म परीवर्तन करवाया जा रहा हे क्योकि भारत का नाम हिंदुस्तान यहा पर हिदुवो की अधिकता को देखते हुवे रखा गया था जो हमेसा से विदेसयो को अखरता आया हे / इस आने वाले धार्मिक सकट को मदय नजर रखते हुवे में सभी संस्थाओ से अनुरोद करता हु की वो हमारे साथ मिल कर इस परदेस में आनेवाले गभीर सकट पर रोक लगवाने में साथ दे कयोकि हमे नही लगता की परदेस मे ऐसी मज़बूरी आयी हे जो यहा के लोगो को धर्म परिवर्तन की राह पर चलने को मजबूर करे / एक अहम् सवाल यह भी उठता हे की ये लोग लोगो को ऐसा क्या परलोभन दे रहे हे जिस के कारण हमारे गरीब तबके के लोग धर्म परिवर्तन में इतनी रूचि दिखा रहे हे और धिरे धीरे इन की तादात बढती जा रही हें / इन की नीतियों से ही इन की मनसा जाहिर हे की ये लोग टीवी चेनलो पर धर्म परचार कर ही रहे हे जिस में मरियम व् इसू का नाम लेने मात्र से ही लोगो के दुःख तकलीफ व आर्थिक सकट से निजात मिलती हुई बताई जाती हे मगर दुखी लोग यह नहीं देखते की इन धार्मिक चेनलो पर बोलने वाले सभी अग्रेज हे जिन्हें हिन्दी में बोलते हुवे दिखाया जा रहा हे कहते हे प्यासे को क्या चहिये पानी व् अन्धे को दो आंख जाहिर हे की ये लोग नाम चर्चा के नाम पर गाव में घुसते हे और दुखी लोग इन की बातो में आजाते हे /मे हरियाणा सरकार और जिला परसासन को भी आगाह करता हु की इस सब को हलके से न ले और इस आने वाले धार्मिक सकट पर गंभीरता से सोच विचार करे कयोकि कुछ समय बाद यह एक बहुत बड़ी सामाजिक और परसासनिक समस्या बन कर सामने आने वाली / सरकार और परसासन यह कह कर पीछा नही छुडवा सकता की धर्म परचार कोई भी कर सकता हे किसी को जबरजस्ती इसाई नहीं बनाया जा रहा हे / इस विकराल रूप से उभर कर सामने आने वाली गभीर समस्या को देखते हुवे सथानिये परसासन और सरकार का अहम् दायितव बनता हे की वो इस की तुरंत जाँच करवाए कयोकि कभी भी सामान्य परीसितथियो में धर्म और आस्था का परिवर्तन नही होता ये किसी परलोभन मज़बूरी या बाध्यता के कारन ही बदलती हे /अत सरकार को तुरन्त जिला परसासको को आदेस पारित कर इस की जाँच करवानी चहिये व साथ ही आदेस देने चहिये की लोगो के दवारा धर्म परिवर्तित करवाये जाने का पता लगते ही उन्हें हिन्दू धर्म से बेदखल करके इसाई धर्म की मान्यता दी जाये ताकि उसे सरकार दवारा हिन्दू जातियों की सुविधाये मिलनी तो बंद हो ही सके साथ ही उन्हें धर्म परिवर्तन करवाने के बाद मे आने वाली धार्मिक रीती रिवाजो व अपनी जातियों व धर्म की विसेस्ताओ का भी एहसास हो सके और अन्य लोग इस तरह के परलोभनो मे पड़ कर अपनी जाती और धर्म के साथ खिलवाड़ ना कर सके / कयोकि धर्म परिवर्तन के बाद वेकती अपने समाज से अलग थलग होकर नए जाती और धर्म में परवेस कर जाता हे और अपने समाज से अलग हो जाता हे तब इन लोगो को अहसास होगा की जूठे व दिखावे के परलोभनोमें फस कर अपनी सस्कर्ति के साथ खिलवाड़ करना कितना महंगा पड़ता हे
जय भगवान सिंह कादयान अद्यक्स जननायक चोधरी देवीलाल ग्राम सुधार सगठन मो० नंबर 999255534
jaibhagwansinghkadyan@yahoo.com
jaibhagwansinghkadyan@facebook.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग