blogid : 14088 postid : 71

सरकारी स्कुलो मे मिड डे मिल और आयरन की गोलिया कहा तक सार्थक

Posted On: 21 May, 2013 Others में

Sarm karo sarmJust another weblog

laxmikadyan

64 Posts

3 Comments

कुछ मुदे जनहित के
सरकारी स्कुलो मे मिड डे मिल और आयरन की गोलिया कहा तक सार्थक परदेस के सभी सरकारी सकूलो मे सरकार दवारा सकुली बच्चो को पोसटिक खुराक देने और उन मे पायी जाने सर्रिरिक कमियों को दूर करने के नाम पर पोस्टीकता के नाम पर मिड डे मिल और आयरन की गोलिया दी जा रही हे और आयदिन सरकार की चलाई हुइ यह दोनों सकीमे विवादों का कारन बनी रहती हे कभी मिड डे मिल मे छिब्कलि कभी कंकर पत्थर तो कभी सडा हुवा गन्दा अनाज या कीड़े मिलने की खबरे तो रोज्मरा की हे ही तो साथ ही इन का मीनू भी विवादित बनाहुवा हे और अगर सभी सकूलो खासकर गरामींन सकूलो का सर्वे किया जाय तो इस मिड डे मिल के मीनू पर हर रोज बच्चो को भोजन करवाना ना ही तो संभव हे और नाही एसा हो पा रहा हे साथ ही खाना बनाने वाली कुको को समय पर तनखा नहीं पहुचती तो कभी समय पर रासन जिस के कारन विवाद बना रहता हे साथ ही इन्हे लकडियो पर खाना बनाना पड़ता हे और केई बार लकडिया ही समस्या बन कर खड़ी हो जाती हे अर्थात मिड डे मिल समस्याओ का नाम बन कर उभर ही रहा था तो साथ मे नहले पर दहला मारते हुवे सवास्थ्य विभाग कमी को पूरी करने पहुच गया इन सकूलो मे आयरन की गोलिया लेकर इन सकूलो के बच्चो की खून की कमी को दूर करने और इन के द्वारा दी गई इन गोलियों ने तुरंत अपना रिजल्ट दिखाया और उन के खून व अन्य कमियों को पूरा करने के लिये हस्पताल पहुचा दिया जिस की हर रोज खबरे मिल रही हे की यह गोलिया खाते ही बच्चो की तबियत ख़राब हो जाती हे और बच्चो को उलटिया पेट व सीर दर्द व चकर आना जेसी सिकायत तो आही रही हे साथ ही इन्हे तुरन्त नजदीक के हस्पताल मे भी भर्ती करवाना पड़ रहा हे विभागों को इस से कोई फर्क नहीं पड़ रहा हे व बच्चो की जानको जोखिम मे डाल कर इन गोलियों को धडाधड बाँटने के आदेस दिये जा रहे हे इस बारे में सकूलो को विभाग के सख्त आदेस बताये जाते हे की उन्हें यह गोलिया बाटनी ही पड़ेगी जबकी इस बारे मे सरकारी डा० का कहना हे की खाली पेट दवाई लेने से एशिडीटी की सिकायत हो जाती हे तो पहला सवाल तो यह उठता हे की आप का वो मिड डे मिल कहा गया जो इन बच्चो ने भूखे पैट दवाई ली और दूसरा और अहम् सवाल यह उठता हे की सरकारी हस्पतालो के डा० के कहे अनुसार यह गोलिया खाने से बच्चो पर बुरा परभाव ही नहीं पड़ता तो क्या यह सरकारी हस्पतालो मे दाखिल बच्चे क्या वहा पिकनिक मना रहे हे और इन गोलिया खाने से बीमार हुवे कई बच्चो की तबियत जयादा बिगड़ी बताई जा रही हे तो ऐसा क्यों हे मे सरकार से इस बारे मे अनुरोध करता हु इन बच्चो की मासुम्यत और जिन्दगी से जुड़े मसले की और देखते हुवे इस मामले की और धयान दे और इस सारे मामले की ऊच सात्रिय जाँच के आदेस तो पारित करे ही साथ ही तुरन्त इन दवाओ के सेम्पलो को लाबोरटी मे भेज कर इन का परिक्सन करवाय और अगर इन दवाइयों मे अगर कोई गड़बड़ी हे तो इस दवा कम्पनी पर सख्त कार्यवाही की जाय
अधियक्स
जय भगवान सिंह कादयान
जननायक चोधरी देवीलाल ग्राम सुधार सगठन
हिसार हरियाणा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग