blogid : 14088 postid : 15

Sarm Karo Sarm

Posted On: 3 May, 2013 Others में

Sarm karo sarmJust another weblog

laxmikadyan

64 Posts

3 Comments

चीन की औकात नहीं, जो हमसे यूँ टकरा जाए ,
कोई भेदी घर का है, पहले उसको ढूंढा जाए।

ख़ामोशी भी गद्दारी है, जब निर्णय लेने में देरी हो ,
सेना को अधिकार सौंप दो, पेइचिंग तक दौडाया जाए ।

सोच रहा जो रण क्षेत्र में, सन 62 को दोहराने की ,
समय आ गया आज बता दो, तिब्बत भी लौटाया जाए ।

देश के ऊपर संकट हो, कोई कुर्सी की बात करे ,
सत्ता के जोंकों को भी, आज सबक सिखाया जाए ।

आँख उठे जो मुल्क पर, आँख निकाल बहार करो ,
व्यापार पर रोक लगाओ, उसकी रीढ़ पर वार करो

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग