blogid : 313 postid : 2069

पार्टनर की कितनी जासूसी करते हैं आप?

Posted On: 13 Nov, 2011 Others में

जिएं तो जिएं ऐसेरफ्तार के साथ तालमेल बिठाती जिंदगी में चाहिए ऐसे जीना जो बनाए आपको सबकी आंखों का नूर

Lifestyle Blog

894 Posts

831 Comments

spying on boy friend phone detailsएक प्राइवेट कंपनी में काम करने वाली नेहा काम की व्यस्तता के चलते अपने ब्वॉय-फ्रेंड मोहित को ज्यादा समय नहीं दे पाती है. जिसके परिणामस्वरूप उन दोनों में दूरियों का दायरा बढ़ता जा रहा है. हालांकि मोहित नेहा के साथ अपने संबंध को लेकर संजीदा है, लेकिन फिर भी नेहा को यही लगता है कि कहीं उसकी पीठ पीछे मोहित उसे धोखा तो नहीं दे रहा. अपनी शंकाओं के निवारण के लिए वह चोरी-छिपे मोहित के फेसबुक और जीमेल अकाउंट पर नजर रखती है. जब कभी भी उससे मिलती है मोहित के फोन की कॉल डीटेल्स देखना नहीं भूलती. नेहा मोहित पर पूरा विश्वास करती है लेकिन वह इस बात से भी डरती है कि कहीं अपनी व्यस्तता के चलते वह मोहित को गंवा ना बैठे.


नेहा तो जहां अपनी वाजिब मजबूरियों के चलते मोहित पर नजर रखती है वहीं राहुल अपनी संदिग्ध प्रकृति के कारण अपनी गर्ल-फ्रेंड तान्या पर पूरी नजर रखता है. वह कब कहां किसके साथ है, राहुल हर बात से आश्वस्त होने के बाद ही शांत होता है. यहां तक की वह अपनी गर्ल-फ्रेंड का दोस्तों के साथ ज्यादा मेल-जोल भी बर्दाश्त नहीं करता. राहुल बस यही चाहता है कि तान्या जहां भी जाए उसी के साथ जाए.


नेहा और राहुल जैसे कई ऐसे प्रेमी हैं जो अपने साथी की ईमानदारी पर संदेह करते हैं. उनके भीतर असुरक्षा की भावना इतनी प्रबल हो जाती है कि वे अपने पार्टनर की हर छोटी-बड़ी बात को जानने की पूरी कोशिश करते हैं. उनके लिए रिलेशनशिप में साथी की निजता और स्पेस कोई मायने नहीं रखते.


कभी–कभार हम यह सब जान बूझकर करते हैं तो कभी आदत के अनुसार यह स्वत: हो जाता है कि हम स्वयं इसे समझ नहीं पाते. कुछ लोग साथी पर पूरा विश्वास होने के कारण उसके व्यक्तिगत जीवन का सम्मान कर अपेक्षित स्थान देते हैं लेकिन कुछ तो इस विषय में सोचकर ही क्रोधित हो जाते हैं कि संबंध में स्पेस जैसे शब्दों का क्या औचित्य हो सकता है.


अगर आप अभी तक अपनी भावनाओं और मानसिकता को जांच नहीं पाए हैं तो निम्नलिखित कुछ प्रश्न आपकी समस्या का समाधान कर सकते हैं.


  • क्या आप कभी भी यह जानने का प्रयत्न करते हैं कि आपका साथी फोन पर किससे और क्या बात कर रहा है? छिपकर फोन वार्तालाप सुनते हैं?


(a) नहीं, मैं कभी ऐसा कहीं कर सकता/सकती.

(b)  हां, अकसर ऐसा होता है, यह जानने के लिए कि साथी के जीवन में क्या चल रहा है.


  • आपके साथी ने आज पूरे दिन में क्या किया या क्या करने वाला है, कभी आप ऐसे प्रश्न करते हैं?


(a) हां

(b) नहीं


  • अगर आपके पास साथी की सोशल नेटवर्किंग साइटों के पासवर्ड हैं तो क्या आप उनके अकाउंट पर नजर रखते हैं?


(a) नहीं ऐसा करना कोई जरूरी नहीं है.

(b) हां, देखते हैं, यह जानने के लिए कि हमारा साथी किससे और क्या बात करता है.


  • अगर आपका साथी दोस्तों के साथ घूमकर वापस आता है तो क्या आप यह जानने का प्रयत्न करते हैं कि वह किससे मिला था?


(a) नहीं, पर जो वो कहता/कहती है, उसे सुन लेते हैं.

(b) हां बिलकुल यह जानना जरूरी है कि उसके दोस्तों में कितनी लड़कियां और लड़के थे.


  • अगर आपका साथी सामर्थ्य से महंगी वस्तु लेता है अपने लिए तो क्या आप उसे बचत के विषय में समझाएंगे.


(a) उसका पैसा है जो मर्जी करे.

(b) बिलकुल, बचत करना बहुत जरूरी है.


  • सिर्फ इसीलिए कि आप उन्हें अपने सारे भेद बताते हैं, अगर आपका साथी आपसे कुछ छिपाता है तो आप उससे नाराज हो जाते हैं और शक करने लगते हैं?


¨(a) नहीं, अगर वो मुझसे अपनी बातें शेयर करता है तो भी ठीक है और अगर नहीं तो भी कोई समस्या नहीं है.

¨(b) मुझे लगता है कि अगर हम किसी रिलेशनशिप में हैं तो उसके जीवन में क्या चल रहा है मुझे यह पता होना चाहिए.


अगर आपके ज्यादातर उत्तर (a) हैं तो आपको पता है कि संबंध में संतुलन कैसे बनाए रखा जाता है. हालांकि यह आप दोनों के लिए अच्छा है लेकिन फिर भी आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि ज्यादा छूट देने से भी संबंधों में दूरियां बढ़ती हैं. आप साथी के पासवर्ड आदि नहीं जांचते, यह बहुत अच्छा है लेकिन जरूरी सूचनाएं आपको होनी चाहिए.


लेकिन अगर आपने ज्यादातर प्रश्नों का उत्तर विकल्प (b) को चुना है तो इसका अर्थ है कि आप बहुत ज्यादा दखल देते हैं अपने साथी के जीवन में. ऐसे में तय है कि आप दोनों के बीच लड़ाई-झगड़े भी बहुत ज्यादा होते होंगे. अगर नहीं होते तो यह बात किसी को भी आश्चर्यचकित कर सकती है.


उपरोक्त विवेचन के आधार पर यह कहा जा सकता है कि जितना साथी की जानकारी रखना जरूरी है उतना ही जरूरी है कि आप उसके व्यक्तिगत जीवन का सम्मान करें. अगर ऐसा नहीं करेंगे तो आप दोनों के बीच मनमुटाव तो विकसित होगा ही साथ ही असुरक्षा की भावना भी बढ़ती जाएगी, जो संबंध के भविष्य पर प्रश्नचिंह लगा सकती है.


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग