blogid : 24183 postid : 1318790

पिया परदेसी,,, सखी कैसे मनाऊँ मै होरी,, (होली विशेष)

Posted On: 12 Mar, 2017 Others में

meriabhivyaktiyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

lily25

125 Posts

73 Comments

होरी की खुमारी मे मै डूब रही सखी,,,,
बोल ना कैसे मनाऊँ अबके होरी,,,,,,,?
रंग ले आऊँ जाय के हाट से,,,,चल मोरे संग,,,,।
लाल रंग लगवाऊँ के,,,, पीरा,,,, हरा रंग चपखीला,,, के गुलाबी नसीला,,,,
ऐ सखी बोल ना,,,,, कुछ तो बोल,,,??
प्रीत की ये पहरी होरी है रे! मन बौराया है,,,सुध-बुध हार बैठी हूँ,,,,।
पर सुन ना ,,, लाल रंग जो उनसे लगवाऊँ तो दिखबे ना करी,,, उनके प्रीत का लाल रंग बहुत चटख है रे,,,,,, देख कैसे लाज से गाल गुलाबी हुए जाए मोरे,,,,,
उईईईईईई माँ,,,, गाल का गुलाबी रंग तो ,,,गुलाल के मात दे रहा रे,,,,,,!!!!
चल तो चटखीला हरा ही लै लूँ,, सइय्या से यही रंग लगवाऊँ ,,,, पर सखि लागे है एहो रंग ना चढ़ी हम पर,,,
,उनके प्रेम के सावन मे भीगो मोरा मन बारहों मास हरा-भरा रहे है,,,,,,,, अब तो जे होरी को हरो रंग भी आपन चटखपन ना दिखा पावेगा।

पीरा ही लै लूँ फेर ,,,,?
अरि कुछ तो बोल,,,अबके बंसत मोरे सजन मोहे बसंती बना गए,,,,ध्यान करते ही तन मन सब बसंती ,,,,, रहे देती हूँ पीरा रंग फीका पड़ जाएवेगा,,,।
सखी खींझकर बोली,,,,तू हमका कछु ना बोलै देत है ना,,, बतावै देत है,,,, ऐसी बाबरी हुई है,,खुद ही सब पूछै,,खुद ही बतलावै,,,तू रंग ना खरीद,,,, अपने सजन के हर रंग मे तू रंगी है,,,,मेरा बखत ना बरबाद कर ,,मोहे जाने दे,,, माई के साथ गुझिया बनवा वे का है हमे,,,बोल सखी भी भाग गई।
अरि सुन तो ,,,,,,,! अच्छा तू बतला दे,,, ऐसे मोहे बिपदा मे अकेली छोड़ ना जा,,, अरी ओ,,,,,सुन ना,,,,,!!! येहो भाग गई अब का से कहूँ अपने जिया की,,,? मै रंग देख मतवारी हो रही,,,हर रंग मोहे पिया के याद दिराए ,,,, बस मन मे ही सपने संजोए हूँ,,,, जो अबके होती संग तोहारे,,,,,रंग से ना भागती ,,, तोहारे रंग मे रंग जाती,,,,,तोहारी प्रेम की फुहार मा तुम संग लिपट भीग जाती,,,,,तुम रंगरेज मोरे,,,,,,सब रंग मे रंग,, सतरंगी चुनरिया सी लहराती,,,,, इतराती,,,,बलखाती,,,,।
मोहे होरी के रंग अब ना भाए री,,,,!
बस पिया रंग रंगी मै तो बस उन्ही के रंग रंगी,,,,,।
होरी कैसे खेरूँ,,,
कैसे बताऊँ जिया की तड़प,,
एक तो पिया परदेश,,
ना रंग लगे ,,,,
ना अंग लगे,,
तू जा अपनी माई के पास रे ,,, सच ही तो कह रही ,,मै तोहरा बखत बरबाद कर रही,,,।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग