blogid : 10271 postid : 434

ये कैसा समय

Posted On: 1 May, 2013 Others में

मैं, लेखनी और जिंदगीगीत, ग़ज़ल, बिचार और लेख

Madan Mohan saxena

209 Posts

1274 Comments

ये कैसी ईमानदारी
जिसके नेत्रत्ब में करोड़ों का घपला हो
ये कहाँ की सरदारी
जब कोई दुश्मन आपके घर में आ धमके
और आप स्थानीय समस्या बोलें
ये कैसा बद्दपन
कि पडोसी मुल्क आपके सैनिकों के सर काट डालें
और आप इसकी उपेछा करतें रहें
ये कैसी निति कि
कोई भी मुल्क आपकी बातों को गम्भीरता से ना लें
और जब मौका मिले पलट जाये .
ये कैसी सुरछा
कि
देश की गुड़िया और बेटियां अपने को खतरें में महसूस करें
और
करोड़ों भुखमरी के शिकार बाले देश में
चन्द लोगों के रहने के लिए अरबों फुकनें बालें अम्बानी
की सुरछा के लिए
सरकार नियमों में परिबर्तन के लिए
ब्याकुल लगे .
ये कैसा नशा कि
पानी की एक एक बूंद को तरसने को मजबूर
लोगों को उनकी दशा पर छोड़ कर
सस्ते पानी के टैंकर देकर
हरे भरे मैदान में
क्रिकेट का मजा राजनेता लें .
ये कैसा समय
राम जाने …….

प्रस्तुति

मदन मोहन सक्सेना

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग