blogid : 38 postid : 428

बचपन की कुछ यादगार : आप भी दें थोड़ा सहयोग

Posted On: 22 Jun, 2011 Others में

चिठ्ठाकारीNew vision of life with new eyes

Manoj

81 Posts

401 Comments

आजकल बच्चों की छुट्टी चल रही है और छुट्टी का यह सीजन देख मुझे भी अपने बचपन की याद आ गई. कभी छुट्टी के दिनों में हम इतनी मस्ती करते थे कि आसपड़ोस वाले कहते थे कि यार इनकी छुट्टियां कब खत्म होंगी. बचपन की यादें इतनी आसानी से हमारा पीछा छोड़ने वाली नहीं और वह भी तब जब जीवन में वह समय चाहकर भी हम वापस ना ला पा रहे हो.


Masti in bachpanबचपन को तो वापस लाना मुश्किल है लेकिन बचपन की यादों को जरुर कुछ देर तक अपने जहन में दौडा सकते हैं.

आज बचपन की ही कुछ कविताओं को आपके साथ सांझा कर रहा हूं उम्मीद है आपको पसंद आएगी और हां अगर आपको भी कुछ मिलें तो जरुर बताएं.


मछली जल की रानी है,

जीवन उसका पानी है,

हाथ लगाओ डर जाएगी,

बाहर निकालो मर जाएगी… 😆 😆 😆 😆


पोशम पा भई पोशम पा,

सौ रुपए की घड़ी चुराई,

अब तो जेल में जाना पड़ेगा,

जेल की रोटी खानी पड़ेगी,

जेल का पानी पीना पड़ेगा, 😆 😆 😆 😆


kid1झुठ बोलना पाप है,

नदी किनारे सांप है,

काली माता आएगी,

तुमको लेकर जाएगी. 😆 😆 😆 😆


आज सोमवार है,

चुहे को बुखार है,

चुहा गया डॉक्टर के पास,

डॉक्टर ने लगाई सुई,

चुहा बोला उईईईईई…:lol: 😆 😆 😆


चंदा मामा दूर के,

पुआ पकाए भूर के,

आप खाए थाली में,

मुन्ना को दे प्याली में… 😆 :lol::lol::lol:


अकड बकड़ बम्बे बोल,

80-90 पूरे 100,

100 में लगा धागा,

चोर निकल कर भागा. 😆 :lol::lol::lol:



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग