blogid : 38 postid : 758114

हजारों जवाबों से अच्छी आपकी खामोशी

Posted On: 23 Jun, 2014 Others में

चिठ्ठाकारीNew vision of life with new eyes

Manoj

81 Posts

401 Comments

पूर्व वित्तमंत्री मनमोहन सिंह एक आदर्श नेता है……….2004 से पहले मनमोहन सिंह के लिए यह शब्द कहने से पहले किसी को एक बार भी सोचना ना पड़ता लेकिन हालात बदल गए हैं। 10 साल के लंबे समय ने इस शख्स की शख्सियत बदल कर रख दी है। जिस शख्स ने कभी देश की अर्थव्यवस्था को बदला था आज उसे लोकतंत्र ने बदल दिया। जवाब मांगने वाले कहते हैं “जब सब गलत हो रहा था तो आप चुप क्यूं थे?”

मनमोहन सिंह ने शायद कभी इसका जवाब ना दिया हो। लेकिन मनमोहन सिंह पर सवाल उठाने वाले लोगों से मेरा एक सवाल है। महाभारत में सबको पता था कौन सही है कौन गलत? भीष्म पितामह जानते थे कौरव अधर्म कर रहे हैं और पांडव धर्म की राह पर है। कर्ण जो मेरी नजर में महाभारत का असली हीरो और नायक है वह भी जानता था कि मेरा दोस्त गलत है। लेकिन क्या दोनों शख्स अधर्म का साथ देने के कारण गलत ठहराए जा सकते है? अगर ऐसा है, अगर दोनों गलत हैं तो मनमोहन सिंह भी गलत हैं।

मैं मनमोहन सिंह का बचाव नहीं कर रहा या उनका पक्ष नहीं ले रहा। मैं उन तमाम मीडिया चैनलों से एक सवाल करना चाहता हूं जो मनमोहन सिंह को देश का सबसे कमजोर प्रधानमंत्री बना चुके हैं कि क्या कर्ण और भीष्म पितामह भी कमजोर थे?

मनमोहन सिंह के दर्द को अगर समझना हो तो सबसे पहले आपको ‘अहसान’ शब्द के मायने समझने होंगे। अहसान, शुक्रमंद होना ऐसी चीजें हैं जो एक धनी इंसान को भी चाहे तो भिखारी के आगे हाथ जुड़वा दे और चाहे तो एक गबरू पहलवान को एक डेढ़ पसली सेठ के घर में नौकर बनवा दे। मनमोहन सिंह को जब सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री के रूप में पेश किया तो वह देश की पसंद या पार्टी की पसंद नहीं थे। सोनिया गांधी ने एक बडा निर्णय लेकर मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बना दिया। मनमोहन सिंह जैसे इकोनोमिस्ट के लिए यह बड़ी बात थी क्यूंकि अगर आप इतिहास उठाकर देखें तो मनमोहन सिंह को लोग एक अच्छे वित्त सलाहकार, अच्छे इंसान और सादगी पसंद शख्सियत के रूप में पंसद करते हैं। उनका राजनीतिक रिकॉर्ड उतना खास या प्रभावी नहीं है। लोग उन्हें एक वक्ता य नेता के रूप में पहले भी पसंद नहीं करते थे और अब तो खैर कहने ही क्या?

सोनिया गांधी को एक ऐसा विकल्प चाहिए था जो अहसान के तले दब सके और मनमोहन सिंह ऐसी ही शख्सियत थे। बलि के बकरे को काटने से पहले अच्छी तरह खिलाओ-पिलाओ तो वह अपनी आवभगत को देखकर बहुत खुश होता है। शुरु में मनमोहन सिंह के साथ ऐसा ही हुआ होगा लेकिन जल्द ही साफ हो गया कि सारा खेल क्या है? पर्दे के पीछे से बैठकर सरकार चलाने की रणनीति भारत में बहुत पूरानी है। किंगमेकर शब्द अगर कहीं की राजनीति में सबसे पहले आय और आज भी सबसे अधिक प्रभावी है तो वह देश है भारत। मायावती, लालू, ममता दीदी, मुलायम, जयललिता जैसे लोग क्षेत्रीय राजनीति से ऊपर उठकर आज तीसरे मोर्चे और किंगमेकर की भूमिका निभा रहे हैं तो यह सब पर्दे के पीछे वाला ही खेल है। सोनिया गांधी ने शायद इस खेल को नई ऊंचाई दी और प्रधानमंत्री मेकर बन गई?

इन दस सालों में कई बड़े घोटाले हुए। मनमोहन जी से जवाब मांगा गया बात अलग है जनाब ने कभी मुंह नहीं खोला। पर वह बोलते भी और कैसे बोलते? एक ब्यूरोक्रेट को आप प्रधानमंत्री बना दो तो बंदा ऐसे ही अगले दस जन्म तक आपकी गुलामी को राजी हो जाए. मनमोहन सिंह ने तो चलो 10 साल में पिण्ड छुडा लिया। कोयला घोटाला हो या 2 जी घोटाला हर बार मनमोहन सिंह की आंखो और चेहरे पर एक दर्द नजर आता था जो कहता था “यारों मैंने क्या गलत किया है? मुझे गाली क्यूं दे रहे हो?” सदन में उनकी शायरी “हजारों जवाबों से बेहतर मेरी खामोशी” का सबने मजाक उड़ाया। लेकिन क्या किसी ने उस दर्द को समझा जिसकी वह से डा. सिंह को ऐसा जवाब देना पड़ा। उस सदन में कई नेता खुद को एक कवि और लेखक के रूप में पेश करते हैं तो क्या उन्हें इस शायरी नहीं पता। इस शायरी का भाव ही यही है कि मेरे खामोश रहने में ही भलाई है अथवा इज्जते उस तरह उतरेंगी जैसे महाभारत में द्रौपदी चीरहरण के समय उतरी थी और उस समय तो कन्हैया थे जो कुछ गलत ना हुआ आज के जमाने में कैग और सीबीआई इज्जत उतारने पर आए तो सोनिया गांधी को ही ना छोड़ों। कैग या सीबीआई का दर्द समझना हो तो लालू, मायावती या मुलायम सिंह से पूछो।

मनमोहन सिंह ने एक बार कहा था इतिहासकर मेरे काम का आंकलन करते समय नरमी बरतेंगे। बिलकुल सही थे वह। 2004 से 2014 तक मनमोहन ने तो कुछ किया ही नहीं है और उससे पहले का रिकॉर्ड उनका बेहद साफ रहा। कॉमनवेल्थ घोटाले कलमाड़ी ने किए, 2 जी-3जी में राजाजी गए, कोयले की कालिख भी दूसरों के चेहरे पर लगी। अब रही उपलब्धियां तो नरेगा से लेकर खाद्य सुरक्षा और शिक्षा के कानून को लागू और उसे पेश करने का क्रेडिट सोनिया गांधी और राहुल गांधी के सर पर है।

जनाब सरदार हमेशा असरदार होता है। मनमोहन सिंह भी ऐसे ही सरदार थे। बस उनके साथ यही हुआ जो शायद शाहिद अफरीदी को टेस्ट मैच खिलाने में या फिर लक्ष्मण जैसे धीमे बल्लेबाजो को टी ट्वेंटी खिलाने में होता है। मिसमैच के मारे हैं हमारे मनमोहन सिंह वरना आदमी यह भी काम के थे। दुनिया चाहे जो भी कहे मेरी नजर में मनमोहन सिंह की छवि को कोई खराब नहीं कर सकता। राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ियों पर जब मैच फिक्सिंग का दाग लगा तो क्या किसी ने उठकर यह सवाल किया कि क्या द्रविड़ भी शामिल थे? नहीं ना, तो मनमोहन सिंह के साथ ऐसा क्यूं?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग