blogid : 4435 postid : 781971

अधर्म की देह में समाती द्रोपदी

Posted On: 8 Sep, 2014 Others में

sach mano toJust another weblog

manoranjanthakur

116 Posts

1950 Comments

धर्म, अधर्म, सत्य, अस्तेय, न्याय, कर्म, तितिक्षा, आर्जव, लज्जा, अमानित्व, सुखादि अभीष्ट, धन, प्रयोजन की जडता में चाणक्य के वेश्यालय उसके गणिकाध्यक्षों के वशीभूत, फंसती, जिस्म को विष से भींगोती,आशक्त करती, विषाक्त बनाती, शत्रुओं के खिलाफ नस्तर, हथियार बनती, इस्तेमाल होती। आधुनिक पर्यटन के विस्तार को देह की फरोशी का आवरण देती। उन्मादी सेक्स की चाहत, रजामंदी में पति को शराब परोसती, खुशबूदार जापानी तेल लगवाती। शरीर में समाती, सुलाती। तह तक नहीं पहुंच पाने की खींज लिए बेसुध, निढाल पति को तलाक कहती, सुनाती एक औरत महाभारत काल से आज तलक निष्कर्मता में ही जी रही है। जहां, गांधारी, कुंडी-मांडी में द्वेष-डाह। सीता का खेत में पाया जाना। शकुंतला का काण्व ऋषि के आश्रम में परित्यक्ता शिशु के रूप में पलना। वहां से निकलती, लव जेहाद में फंसती, तडफडाती, रिवाज, संस्कार को अधर्म, अपवित्र करती रंजीत उर्फ रकीबुल हसन के तीन धर्मों में उलझती कहानी, छह जजों से संपर्क के किस्से सुनाती, भरोसा न्यायालय से तोडती उस पुत्र मोह के आगे देह समर्पण करती पुरूषों को शब्द देने की रस्म निभाती, अदा करती शूटर तारा शाहदेव सामने है। जहां, बांसुरी बजाते श्रीकृष्ण के किस्से सुनाते नरेंद्र मोदी धृतराष्ट्र्र् सदानंद गौडा व राजनाथ सिंह को दुष्कर्म व घूस की बात स्वप्नदोष मानते खडे मिल रहे हैं। मानो, श्रीकृष्ण से अर्जुन कह रहे हों
अधर्माभिभवात्कृष्ण प्रदुष्यन्ति कुलस्त्रिय:।
स्त्रीषु दुष्टासु वाष्र्णेय जायते वर्णसक्कर:।।
हे पार्थ! पाप बढने से स्त्रियां दूषित हो जाती हैं। फिर वर्णसंक्कर ही उत्पन्न होते हैं। हालात भी यही। अरूण जेटली को निर्भया कांड, दुष्कर्म, मौत, देश में उबाल आज मामूली घटना लग, दिख रही। ये वही भाजपा है जो वारदात के बाद जंतर-मंतर पर कांग्रेसी युवराज के उन दिनों विदेश में होने पर हाय तौबा मचाए, शीला सरकार से इस्तीफा मांगती, आमादा थी। अब, पर्यटन उद्योग को चमकदार, प्रमोट व व्यवसायिक विस्तारित, ज्यादा मुनाफा लेने की हडबडी में उसी महिला देह की मलाई, जिस्म की नंगा नुमाइश को तैयार है। मकसद यही, लज्जा, हया, बेशर्मी उस खुले बदन की लोच को देखकर पुरूषों के ईमान डोल जाएं। पूरा जमात ही मचल उठे। फलसफा, देश की छवि, स्वच्छ, बेदाग बनाने, दिखाने की मंशा के बीच राज्यों के पर्यटन मंत्रियों के सम्मेलन में जेटली आमंत्रण परोस रहे। वहीं गोवा के मंत्री ने तो राजस्व बढाने का नुस्खा, फार्मूला ही स्त्री देह में खोज, तलाश निकाला। तरासे खुले बदन की औरतों की दुकान सजाओ। एक से दो हजार की टिकट में खरीददारों को बंटोर लो। ये जो, भारत को महाशक्तिशाली बनाने के बीच आज बिकनी खडी है। स्पेशल बिकनी बीच ही बना डालो। टुकडों के छोटे पहनावे से वसूल लो चमडी की पूरी कीमत। देश में धर्म का व्यवसायिक विस्तारीकरण वैसे ही हो रहा। बस, उसे त्रिया चरित्र में लपेट दो।
आरएसएस की धर्म जागरण समिति धर्म परिवर्तित कर चुके लोगों को हिंदू बनाने को तत्पर, आमादा है। अलीनगर के असरोई के बाद हाथरस में 42 साल पहले इसाई कबूल कर चुके आज हिंदू बन रहे। मानो, केंद्रीय मंत्री नेजमा हेपतुल्ला को हिंदू व ंिहंदी में फर्क ही मालूम नहीं? पहले हिंदुस्तान में सभी हिंदू का नारा, पलटते ही हिंदी की तरफदारी। लगा, फिल्म निदेशक रामगोपाल वर्मा गणेश पर सवाल दाग रहे हों। मां के सम्मान की रक्षा करने वाले बच्चे का सिर कोई
कैसे काट सकता। सही है, सम्मान की रक्षा तो कन्नड अभिनेत्री मेंत्रैयी भी चाहती है। सदानंद गौडा के पुत्र कार्तिक गौडा पहले उसे देह में समाते हैं। शोषण करते। बाद में मुकरते। कहीं और सात फेरे लेने की जिद करते। गोया, बिहार के हाजीपुर में एक विधुर इंस्पेक्टर उदय प्रताप सिंह लालगंज पहुंच गए होें जहां खाना बनाने के लिए एक विधवा को रखते, उसे प्यार, प्रेम जाल में फंसाते, शादी रचाते फिर उसे रास्ते से हटाते एक औरत की धर्म को नष्ट करते यूं मिलते जैसे पुत्र पंकज ंिसंह के मोह में फंसे राजनाथ राजनीति से तौबा, संयास लेने की धमकी देते, घूस मामले को ही दफन, रफा-दफा करवा लिया हो।
सुप्रीम कोर्ट भले नसीहत दे। ये दाग अच्छे नहीं। साफ छवि वालों को ही मंत्री बनाएं। बावजूद, 21 फीसदी आज भी आपराधिक छवि वाले हत्या, शीलहरण की कालिख पोते कतार लगाए हैं। यूपी के 25 मंत्रियों पर चल रहे आपराधिक मुकदमें वैसे ही शर्मनाक हालात में जहां स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती श्री शिरडी संस्थान को धर्म सम्मेलन में आने का न्यौता दें और धर्म संसद के प्रस्ताव के बाद बलसड की एक मंदिर से साई बाबा की मूर्ति ही हटा दी जाए। या, दिल्ली से पाक जाने वाली समझौता एक्सप्रेस में विस्फोट करने वाले स्वामी असीमानंद को जमानत। सवाल वहीं, चाईबासा का एक जवान युवती का यौन शोषण करता, उस आपत्तिजनकता को मोबाइल में अपलोड, तस्वीर उतारता फिर ब्लैकमेल करता। दूसरा, एनएसजी जे2 बटालियन का कोलकाता से दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में न सिर्फ महिला को नोंचता बल्कि उसे गिरफतार करने आए रेल थाना के दरोगा व अन्य कर्मियों पर अपने अन्य जवान साथियों के साथ धावा बोलता वहीं मधुबनी जा रही एक टीवी चैनल की महिला पत्रकार के साथ अलीगढ स्टेशन के समीप यूपी के दरोगा रामचंद्र यादव छेडखानी करते यूं मिलते जैसे मर्द अमेरिका को आइएस को मिटाना अब आसान नहीं लग रहा। या फिर भाजपा सांसद आदित्यनाथ जिन्हें अल्पसंख्यक जहां दस फीसदी होंगे दंगा होता दिखता है।
नतीजा, कांग्रेस-भाजपा आज इको फ्रेंडली मैच खेल रहे हैं। धर्मनिरपेक्षता पर किरकिरी करवाते, धन-जन योजना को पुरानी बोतल का शराब कहते। वहीं बुर्जुग नेताओं को रिटायर करने का पीएम मोदी के फार्मूले को पचाते। आरएसएस की तर्ज पर काॅडर बनाने की तैयारी करते ढोल बजाते। अब, आसाराम से मिलने, गुणगान करने वालों में नरेंद्र मोदी से राजनाथ,प्रेम तोगडिया, भाजपाई सीएम थे कोई कांग्रेसी तो थे नहीं कि जेल से रिहा करने में संत की सेवा करें। अरे, मदद तो दिल्ली में सरकार बनाने के लिए भाजपा को चाहिए। अब कुमार विश्वास से मिलोगे, बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी ही। भले, मुंबई में पत्नी की अत्यधिक सेक्स की चाह पूरा नहीं करने और दूसरे पुरूषों के पास जाने की धमकी के बीच लाचार पति को तालाक देनी पडे। यहीं औरत के दो चेहरे और भी हैं। बुलंदशहर के दौलतपुर में छुटटी मनाने पहुंचे बीएसएफ जवान नलकूप में पांच दिनों तक दुष्कर्म करता बाद में युवती की पहल पर पंचायत में शादी के बंधन में बंधता ऐन मौके पर सीतामढी की एक युवती पहले मोबाइल चुराती है। फिर टीवी पर सीरियल सावधान इंडिया देखते जोश में मर्दानी बनकर एक चिकित्सक से पांच लाख की रंगदारी मांगती धराती सामने है। बात वही हो गयी। जिस्म दिखाने वाली आइटम मल्लिका शेरावत यूएन में महिला उत्पीडन की बात कह, उठा रही है इधर, लोगों में जागरूकता के लिए तृणमूल के विधायक दीपक हलदर की बात गले में अटक रही कि धरती रहने तक दुष्कर्म होते रहेंगे। यकी न आए पूछिए एक जज के हाथों इज्जत लूटाए महिला जज के यौन शोषण की जांच कमेटी पर सवाल उठाती अधिवक्ता इंद्रा जय ंिसंह से। यौन उत्पीडन में उस पुरुषिया जज को भेजी गयी नोटिस से नाखुश महिला वकील जांच कमेटी को ही संदेह से निहार रही जिस कार्रवाई में ना जाने कितने पेंच हैं। गोया, चार साल बाद धर्मगुरु नित्यानंद बलात्कारी हैं या नहीं यह पौरुष परीक्षण से तय हो रहा है। वहीं, सुपर माॅडल कैट अप्टाॅन बेसबाॅलर जस्टिन बेरलेंडर के साथ बाथरूम में नहाती तस्वीर को निहारते दिल्ली हाईकोर्ट के जज पंद्रह साल की पत्नी से संबंध दुष्कर्म नहीं मानते उन युवकों को सजा दिलाने की दलील सुनते मिलते हैं जो अभी-अभी दलसिंहसराय के एक घर में घुसकर किशोरी से दुष्कर्म की कोशिश करते धराने पर बेटी और बाप पर तेजाब फेंककर भाग रहा है। मानो, एक अभिनेता के एचआईवी पाॅजिटिव होते ही पूरे लाॅस एंजिल्स पोर्न उद्योग पर ही अस्थायी रोक लग गयी हो। ऐसे में, तुमने ही तो कहा था
परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृतामृ ।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे।।
समय आ गया है। पापकर्मों का विनाश करने, धर्म की सही स्थापना, अधर्म की देह में समाती द्रोपदियों की इच्छा, वासना को स्थिरचित करने लौट आओ हे पार्थ!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग