blogid : 4431 postid : 1236925

कोई उनसे पूछे ...

Posted On: 28 Aug, 2016 Others में

KALAM KA KAMALJust another weblog

meenakshi

161 Posts

978 Comments

अति सर्वत्र वर्जयते‘  देखा जाय तो यह सूत्र हरदम उचित साबित होता है। चाहे व्यक्तिगत हो ,सामाजिक हो अथवा प्राकृतिक परिपेक्ष्य हो ।

आजकल कई क्षेत्र बाढ़ के प्रकोप से ग्रसित हैं … सचमुच दृश्य देखकर जी दहल जाता है ।

उनके दुःख दर्द को क्या हम शब्दों में बयां कर पाएंगे … ? शायद .. नहीं… .कदापि … नहीं ….

*

कोई उनसे पूछे ?
कैसे बिखरा ?
आशियां उनका
मिलकर ,
सजाया था
तिनका तिनका
बिनकर .

*

हाय !
अब क्या संवर पायेगा ?
साधन सामान ,
शायद फिर भी ,
पर क्या ?
जो बिछड़े फिर मिल सकेंगे ?
काश !

*

हे प्रभु !
किस कसूर की मिली सजा ?
वे थे बेक़सूर ..
कसूरवार और कोई
लगता है उनका शायद सगा
करना उनको क्षमा
बंदे हैं तेरे, करना दया
हे मालिक !
——

मीनाक्षी श्रीवास्तव

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग