blogid : 23463 postid : 1140888

सफेदपोश बनाम सफेदपोश

Posted On: 21 Feb, 2016 Others में

SAITUNIKHINDI POEMS & Blogs

meetagoel

52 Posts

52 Comments

भारत की मिटटी में पैदा होने वाले हम सभी लोग जिनका धर्म है इस पावन भूमि की रक्षा करना मैंने इन लोगों को तीन वर्गों में बाँटा है एक वो जो जी जान से भारत की सीमा पर खड़े होकर अपना तन मन न्योछावर करते हुए इस मातृभूमि की रक्षा करते हैं दूसरे वो जो कुर्सी पर बैठ देश को बनाने की बजाय उसे खोखला कर रहे हैं और तीसरे हम जैसे नागरिक जो इन दोनों तरह के लोगों को किसी मैच में बैठे मूक दर्शक की तरह कभी दाँए देखते हैं तो कभी बाँए पहली टीम को देखकर सराहना करते हैं और दूसरी टीम को देखकर उलाहना करते हैं दोनों टीमें सफेदपोश हैं एक सफेदपोश टीम जो सियाचिन की बॉर्डर पर खड़ी है जिसमें वीर ही वीर हैं हर पल अपनी जान इस देश को देने के लिए हर पल शहीद होने की तमन्ना दिल में रखे हुए बर्फ की सिल्लियों के नीचे दबकर भी उफ़ न करते हुए ये सफेदपोश मुझे पसंद हैं मैं इनका सम्मान करती हूँ इनकी जगह मेरे दिल और दिमाग में है दूसरी ओर सफेदपोश टीम जो खादीके कपड़े पहने हैं परन्तु बड़ी बड़ी गाड़ियों में घूमते हैं संत्रियों से घिरे रहते हैं ये सफेदपोश कुर्सी की चमक से प्रभावित हैं जिन्होंने अपनी अंतरात्मा को एक कोने में दबा दिया है जिनका एक ही मकसद है पैसा ,रुपया ,डॉलर विदेशी बैंक में इनकी तिजोरियाँ भरी हुई हैं ऐसे सफेदपोशों को हम ही अधिकार देते हैं इस देश की कानून व्यवस्था से खिलवाड़ करने का .
उठो ,जागो मेरे हिन्दुस्तानी भाईयों और बहनों कुर्सी पर बैठे इन सफेदपोश मंत्रियों और सियाचिन लद्दाख पर तैनात उन सफेदपोश वीरों के बारे में सोचिए कितना अंतर है दोनों की सोच में आप किसे अपना मत देंगे उन्हें जिन्हें हमने अपने दिल में बैठाया है या उन्हें जिन्हें हमने अपने सिर पर बैठाया है एक हैं भारत के वे वीर जो हर समय बॉर्डर पर देश की रक्षा करते हुए मौत से जूझते रहते हैं और दूसरे हैं वे जो भारत की प्रजातंत्र प्रणाली से खिलवाड़ करते अपनी सत्ता की ताकत का गलत इस्तेमाल करते हैं ये और कोई नहीं है ये है हमारे अपने …………… ढीठ मंत्री

लेखिका – मीता गोयल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग