blogid : 8647 postid : 605

ससुरवां रास आ गइल

Posted On: 24 Mar, 2013 Others में

साधना के पथ परअद्य की स्याही

सूफ़ी ध्यान श्री

50 Posts

1407 Comments

होली मुबारक!

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,

ससुरवां रास आ गइल.

उठी-सुती देखेनी सपनवां,
सजनवा रास आ गइल.
माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

कैसे के जाई नैहरवा,
फगुनवा मास आ गइल.
बाजे ढोल औरी नगड़वां,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

सास-ससुर के हम दिल के टुकड़वा,
ससुरवां रास आ गइल.
देवर मिलले, लक्ष्मण समानवा,
ससुरवां रास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

सैयां मारे तिरछी नयनवा,
फगुनवा मास आ गइल.
रंग में डूबल, तन औरी मनवा,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

घर- घर बाजे ढोल औरी नगड़वा,
फगुनवा मास आ गइल.
आज झूमे सगरे जहनवां,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

अनिल कुमार ‘अलीन’

( चित्र गूगल इमेज साभार )

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 4.71 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग