blogid : 6048 postid : 1227267

आखिर एक स्त्री ....

Posted On: 12 Aug, 2016 Others में

Hum bhi kuch kahen....दिल की आवाज....

Malik Parveen

96 Posts

1910 Comments

शाम ठिठक गई थी
मेरे आँगन में
लेने को मुझसे विदाई
पर मैं तो मुझमें थी ही नहीं
मुझमें थी एक माँ
जो चिंतित थी
बाहर जोर की बारिश देख
“भीग जायेगा मेरा बच्चा”
यही सोचकर ….!
मुझमें फिक्रमंद थी एक औरत
दौड़ रही थी यहाँ-वहाँ
निपटाने को अपने सौ काम
मुझमें बाट जोहती एक पत्नी
आखिर क्यों हो जाते हैं
अक्सर ये लेट …!
मुझमें परेशां थी एक गृहिणी
फ़ैल गयी थी गमलों की मिट्टी
तेज़ बारिश की बौछारों से
वो शाम हौले से मुस्काई
और चली पड़ी अपनी डगर
आखिर कितनी राह देखती मेरी
कितने चक्र तोड़ती
मुझसे मिलने को क्योंकि
मुझसे मैं भी कहाँ मिल पाती हूँ
बरसों लग जाते हैं मुझे
मुझसे ही मिलने में और फिर
अब मुझमें मेरा वजूद भी
अधूरा सा लगता है अकेली का
मैं गर संपूर्ण हूँ तो बस
इसी तरह दूसरों में उलझी
खुद से अनजान सी
थोड़ी हैरान थोड़ी परेशान सी
क्योंकि मैं मुझमे होकर भी
नहीं होती हूँ एक स्त्री हूँ ना …..!!
प्रवीन मलिक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग