blogid : 6048 postid : 1225580

थोड़ी सी मैं भी रह गयी थी उस मोड़ पर ....

Posted On: 9 Aug, 2016 Others में

Hum bhi kuch kahen....दिल की आवाज....

Malik Parveen

96 Posts

1910 Comments

ऱफ्ता-ऱफ्ता
कुछ छूटता जा रहा है
कुछ यादें धुंधली पड़ रही हैं
नए-नए रिश्तों के बीच
मुरझा रहे हैं कुछ पुराने रिश्ते
जिंदगी के सफ़र में
आगे बढ़ते-बढ़ते
नए रास्तों पर चलते-चलते
पीछे रह गए कुछ मोड़
कुछ पल ठहरे थे थकन मिटाने को
नई स्फूर्ति लेने को हम जहाँ
उन ठाँव को, उन मोड़ को
सिरे से तो न भुलाया जा सकेगा
आखिर थोड़ी ही सही पर
कुछ तो रह गयी थी “मैं” वहाँ ।।
प्रवीन मलिक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग