blogid : 13246 postid : 688280

सोचा है कि ........(कविता )contest ( द्वितीय पुरस्कार )

Posted On: 16 Jan, 2014 Others में

कुछ कही कुछ अनकहीसुर्खरुँ करेँ इन्सान को,जमाने की अाधिँयाँ,फजाँ-ए-जमीँ मेँ इतनी ता कत तो नहीँ।तुम समझे थे टूट जायेँगेँ ठोकरोँ से। इन्साँ हैँ हम कोई इमारत तो नहीँ।

mrssarojsingh

185 Posts

159 Comments

डुबोया ना करें वो

सोचा है कि
इंद्रधनुष के रंग बन
दूर क्षितिज तक
मैं आज बिखर जाऊं
यहाँ से वहाँ तक
दूर तक फैले नीले आसमां पर
सतरंगी चूनर बन लहराऊँ
सोचा है कि
सर्दियों की चटख चमकीली
धूप बन निखर जाऊं
यहाँ वहाँ
बाग़ बगीचों में
घर आंगन में हर कहीं
सुनहरी किरणें बिखराऊं
सोचा है कि
सावन की बरखा बन
मैं आज बरस जाऊं
यहाँ वहाँ
घर आँगन, खेतों में,
गलियों में हर कहीं
टिपटिप बरसती बूदों की
रिमझिम पर
गीत कोई गुनगुनाऊँ
सोचा है कि
मौसम बहारों का बन
गुलशन में
फूल हर रंग के खिलाऊँ
यहाँ से वहाँ तक
जो भी मिले राहों में
पता बहारों का
उन सब को बताती जाऊं
सोचा है कि
पूनम का चाँद बन
चांदनी रातों सी
मैं खिल जाऊं
यहाँ वहाँ
हर कहीं धरती से अंबर तक
किरणें हजारों
हर अँधेरे कोने को बांटती जाऊं .
सोचा है कि
समंदर बन
हर लहर को
किनारे पर बुलाऊँ
यहाँ वहाँ हर कहीं
बीच समंदर में
डुबोया न करें
वो कश्तियों को
यूँ ही बेसबब
बात यह
उन सब को मैं समझाती जाऊं
सोचा है कि
उजाले की
नन्ही सी लकीर बन
बंद हैं जो किवाड़
उन की दरारों में भी
जरा मैं झाँक आऊं
वो जो उदास और तन्हा हैं
डोर उनकी भी तो खुशियों और
उजालों से जरा मैं बांध आऊं
सोचा है कि
कोरे पन्नों पर अल्फ़ाज़ों से
रिश्ते कुछ नये बनाऊं
यहाँ वहाँ
जाने कहाँ कहाँ
बिखरे हुए अपने ख्यालों को भी
अब तो किसी
अंजाम तक मैं पहुँचाऊँ

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग