blogid : 4773 postid : 762036

रेल बजट

Posted On: 9 Jul, 2014 Others में

Great Indiawith unite and love to all

Imam Hussain Quadri

107 Posts

253 Comments

आज का रेल बजट कैसा है इस पर ज़यादह कुछ कहने की ज़रुरत नहीं सिर्फ इतना ही सोचना काफी है के जिस महंगाई का सहारा बना कर सरकार बनाया गया आम जनता को अपने तरफ आकर्षित किया गया अगर खूब ठीक से सोचा जाए तो आज के हिसाब से पिछली सरकार ने कुछ भी महंगाई को बढ़ावा नहीं दिया जैसे के आज रेल मंत्री ने कहा के दस साल से किराया नहीं बढ़ने की वजह से रेल घाटा में चल रहा था इस से साबित हुआ के पिछली सरकार ने गरीबों के बहुत पैसे रेल किराया से बचाया और लालू ने रेल को फायदा भी दिखाया था अगर घाटा ही था तो पूरी दिल्ली को मेट्रो से कैसे सजाया गया बहुत सी नयी ट्रैन भी चलीं दिल्ली और बहुत से स्टेशनों को सजाया भी गया बहुत सी सहूलतें भी दी गयीं अब १४.२ % बढ़ा कर बहुत ही बोझ गरीबों के सर से हल्का करने का एहसान भी जताया जा रहा है बिहार के साथ कई राज्यों को कुछ भी ख़ास नहीं मिला लालू ने गरीब रथ दिया था वो भी शायद अच्छा काम नहीं था और घाटा में ही चलाया गया और भी बहुत सी चीज़ों को महंगा करने के बावजूद भी पिछली सरकार ही महंगी थी और आज की सरकार सस्ती और अच्छी है .
खैर जो भी हो अब तो कोई विपक्ष में भी नहीं है जितनी भी चीज़ें मंहगी हो या जो भी हो कोई बोलने वाला भी नहीं है उम्मीद है के आम गरीब जनता अब रेल को सपने में देखना पसंद करेगी या अपने ज़रूरी सफर को कम करेगी पिछली सरकार ने जितनी मंहगाई दस साल में नहीं बढ़ाई उतनी अब आते ही पहली सफर में ही बढ़ा दिया फिर भी हम खुश हैं .
तुम जफ़ा करो हम वफ़ा करेंगे : देश के खातिर हम ये सजा भी सहेंगे
और भी कुछ तोहफे हैं जो कल मिलेंगे जिस से देश को सजाया जाएगा या गरीबों के लहू से एक नया इतिहास लिखा जाएगा हम गरीबों को नयी ख़ुशी मिलेगी या एक और तूफान से लड़ने और कडुवे घोंट पिने को कहा जाएगा जो भी सब कुछ सहा जाएगा क्यूंकि वोट जो दिया है विश्वास जो किया है वफ़ा जो किया है जो भी दगा हो या सजा हो उसको निभाया जाएगा ये सब आपके एहसान कभी भी नहीं भुलाया जाएगा हम गरीबों के म्हणत और पैसों से देश को सजाया गया है और भी कुछ म्हणत से जमा किये हुए लहू को देश के खातिर बहाया जाएगा क्यूंकि अब तो किसी में हिम्मत नहीं के आपको कुर्सी से पांच साल तक उठाया जाएगा .
हमसे गिला है के हम वफादार नहीं : सच तो ये है के तुम भी दिलदार नहीं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग