blogid : 5368 postid : 44

कुछ खामोश से अरमान

Posted On: 16 Jul, 2011 Others में

सफर ख्वाबों का........मासूम ख्वाहिशें खुद से खुदा से

नंदिनी

6 Posts

49 Comments

closed-door

बंद किवाड़ो के पीछे से

कुछ खामोश से अरमान मचलते  है
कुण्डी लगे खुले आसमानों में
पर फैलाने को
ख्वाब तरसते  है
कतरे कतरे बुने है ख्वाब
मगर ख्वाहिशो के इस जंगल में
चिंदी चिंदी वो उधड़ते है
सजते है फिर वो नयी
दुल्हन कि तरह
इंतजार में किसी के
हर आहट पर चौंकते है
फिर चुपके से किसी कोने में जा
दुबकते है सहमते है सिसकते है
बंद किवाड़ो के पीछे
कुछ खामोश  से अरमान मचलते  है
कभी नए फंदों में बुनकर
आँखों में झिलमिल करते है
कभी आजाद परिंदे कि तरह
नील  गगन में उड़ते है
कभी किसी बादल में बैठ
ख़ामोशी का मंजर तकते है
और तेज झोंको के संग
आवारा से वो फिरते हैं
बंद किवाड़ो के पीछे से
कुछ खामोश  से अरमान मचलते  है
कभी किसी मासूम बच्चे से हो ख़्वाब मेरे
अजब अठखेली करते है
दौड़ते है वो बेतहाशा
और कुछ देर थम के
सांसो को मेरी बोझल करते है
बंद किवाड़ो के पीछे से
कुछ खामोश से अरमान मचलते  है

फ्त्य्य्म्क्क


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग