blogid : 4337 postid : 153

कबूल

Posted On: 28 Dec, 2012 Others में

narayaniKuch anubhav... Kuch vichar...

narayani

40 Posts

331 Comments

” कबूल “
तेरे बागो का थी, मैं एक सुंदर फूल
काँटों से बचाया ,सहेजा तूने मुझे
कभी न चुभने दिए शूल …….
गुलाबो सी महकती रही थी
गुलालो सा उड़ता रहा गुल
चहकती रही ,फुदकती रही
तेरी प्यारी बुलबुल …
कितना सुकून ,सुख था
तेरी गोदी का झुलना झूल ….
दे दिया अपने सुंदर फुल को
किसी और कुल ….
नकार दिया न किया स्वीकार
झाड़ दिया समझ कर धूल ….
ऐ मेरे प्यारे बाबुल ……
एक अर्जी मेरी कर कबूल …..
अब जब जन्म लू तेरे घर
फिर ना करना ऐसी भूल ….
न देना मुझे किसी को
जहा तेरे प्यार की कीमत न हो
न करे जो तेरे प्यारे से फूल को
प्यार से कबूल ……….

नारायणी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग