blogid : 4699 postid : 81

इस इन्तेहा की हद को बार - बार देखिये

Posted On: 18 Oct, 2011 Others में

ye juban mujh se see nahin jaati ...Just another weblog

neelamsingh

3 Posts

54 Comments

यूँ हो रहा है मौत का व्यापार देखिये
इन कातिलों के खंजरों की धार देखिये |
वे कर रहे हैं आपकी भी ज़िन्दगी के सौदे
है बिक रहा कफ़न भी बेशुमार देखिये |
अंजाम दे रहे जो हँस – हँस के हादसों को
वो हो रहे हैं कैसे शर्मसार देखिये |
नज़रों को अपने इस तरह न फेरिये जनाब
अब जो भी देखिये वो आर – पार देखिये |
लुटते रहेंगे कब तक , मिटते रहेंगे कब तक ?
इस इन्तेहा की हद को बार -बार देखिये

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग