blogid : 314 postid : 1386624

नीरव मोदी घोटाले की वजह से PNB ने बदला ये नियम! जानें क्या होगा असर

Posted On: 23 Feb, 2018 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1452 Posts

925 Comments

नीरव मोदी का पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में किया गया 11,400 करोड़ रुपये का घोटाला सुर्खियों में है। नीरव देश से बाहर है, लेकिन उसके खिलाफ लगातार शिकंजा कसता जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार को नीरव मोदी और उसकी कंपनियों की 9 महंगी कारें जब्त कीं। इसके अलावा नीरव के 7 करोड़ 80 लाख के और मेहुल चौकसी ग्रुप के 86 करोड़ 72 लाख रुपये के शेयर म्यूचुअल फंड फ्रीज कर दिए गए हैं। वहीं, घोटाले के बाद अब पंजाब नेशनल बैंक ने बैंक नियम में कुछ बदलाव किए हैं। आइये आपको बताते हैं कि पीएनबी ने नियम में क्‍या बदलाव किए हैं और उसका क्‍या असर पड़ेगा।


PNB nirav Modi


SWIFT के नियम किए सख्‍त

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैंक ने SWIFT यानि Society for Worldwide Interbank Financial Telecommunications के इस्तेमाल के नियम सख्त कर दिए गए हैं। अब केवल अधिकारी की Swift नेटवर्क को देखेंगे। इसका सीधा मतलब यह हुआ कि अब Swift की जानकारी क्लर्क स्तर के कर्मचारियों को नहीं होगी। मैसेज जनरेट करने, वेरिफाई करने और उसे अॉथराइज करने वाले तीन अलग-अलग अधिकारी होंगे। अभी तक दो अधिकारी या क्लर्क इसे जनरेट करते थे।


PNB1


मुंबई में एक नई ट्रेजरी डिवीजन

इसके अलावा पीएनबी ने मुंबई में एक नई ट्रेजरी डिवीजन बनाई है। इस डिविजन ब्रांच के पास ‘स्विफ्ट’ के जरिये भेजे जाने वाले मैसेज को री-अॉथराइज करने का जिम्मा होगा। अगर कोई मैसेज रिजेक्ट किया जाता है, तो उसका रिकॉर्ड रखना पड़ेगा, ताकि उसकी ऑडिटिंग की जा सके। खबरों की मानें, तो बैंक ने अब Swift के जरिये किए जाने वाले ट्रांजेक्शन के दौरान ऑफिसर की लिमिट भी तय करने का फैसला लिया है। माना जा रहा है कि इस नई व्‍यवस्‍था के लागू होने के बाद Swift के जरिये घोटाले होना मुश्किल है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन बदलावाें के बारे में 17 फरवरी को बैंक के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों को मेमो भेजा गया है। आने वाले गुरुवार से इस पर अमल के निर्देश दिए गए हैं।


PNB2


क्‍या है SWIFT सिस्‍टम

SWIFT यानि Society for Worldwide Interbank Financial Telecommunications अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य एक मैसेजिंग नेटवर्क है। इसके माध्‍यम से दुनियाभर के बैंक ‘एक कोड सिस्टम’ के जरिये वित्तीय लेनदेन का सुरक्षित आदान-प्रदान करते हैं। जानकारों का मानना है कि SWIFT के जरिये किसी एक पूरे बैंक को धराशाही किया जा सकता है। मेकर, चेकर और वेरिफायर SWIFT में बहुत बड़ा रोल प्ले करते हैं। मेकर सिस्टम में मैसेज डालता है, चेकर उन मैसेजेस की जांच करता है और वेरिफायर इन दोनों प्रक्रियाओं की जांच कर वेरिफाई करता है।


niravchoksi


नीरव को स्विफ्ट सिस्टम से ही घोटाला करने में मिली मदद

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएनबी घोटाले की अभी तक की जांच में साफ हो चुका है कि नीरव मोदी को स्विफ्ट सिस्टम से ही घोटाला करने में मदद मिली थी। जांच में सामने आया कि नीरव मोदी के लोगों को पीएनबी के कंप्यूटर सिस्टम पासवर्ड मालूम थे, जिसे वे बिना किसी रुकावट के यूज करते थे। लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के लिए जरूरी सभी लॉग-इन पासवर्ड उनके पास थे। पीएनबी के ब्रेडी हाउस ब्रांच के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्‌टी, सीडब्ल्यूओ मनोज खरात और नीरव के आधिकारिक हस्ताक्षर करने वाले हेमंत भट्ट ने पूछताछ में सीबीआई के सामने ये खुलासा किया था। गोकुलनाथ शेट्‌टी, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी को जो एलओयू जारी करता था, उसकी सूचना वह दूसरे बैंकों को ‘स्विफ्ट’ के जरिए ही देता था…Next


Read More:

बॉलीवुड के वो 5 सितारे, जो अब शायद ही करें सलमान के साथ फिल्‍मों में काम!
कूल धोनी को मनीष पांडे पर आया गुस्सा, बैटिंग के दौरान ऐसे निकाली भड़ास
कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए रजिस्‍ट्रेशन शुरू, जानें क्‍या है प्रक्रिया और योग्‍यता


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग