blogid : 314 postid : 867625

अनोखा आविष्कार: अब इसके बिना आपकी बाइक नहीं होगी चालू

Posted On: 8 Apr, 2015 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1623 Posts

925 Comments

आगरा के इंजीनियरिंग के विद्यार्थी द्वारा विकसित इस तकनीक का उपयोग अगर बड़े स्तर पर होने लगे तो हर साल सड़क दुर्घटना में होने वाली सैकड़ों मौतों को रोका जा सकता है. इस छात्र ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जिससे हैलमेट पहने बगैर बाईक स्टार्ट ही नहीं होगी. हिमांशु गर्ग नामक इस छात्र के आविष्कार ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को इतना प्रभावित किया कि वे न सिर्फ इस छात्र को 5 लाख रूपए का पुरस्कार दिया बल्कि राज्य में छात्रों को ऐसे आविष्कारों के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक ‘इनोवेशन फंड’ भी स्थापित करने की घोषणा की है.



A-couple-wearing-helmets-while-riding-their-motorcycle-along-Matina


हिमांशु ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जो मोटरसाईकिल को तब तक स्टार्ट नहीं होने देगी जब तक की बाइक सवार हेलमेट नहीं पहन ले. हिमांशु ने अपनी इस नई तकनीक का प्रदर्शन मुख्यमंत्री आवास पर किया.  हिमांशु ने कहा कि उनके इस आविष्कार से हर वर्ष लाखों जिंदगियां बच पाएंगी. इस तकनीक की खास बात यह है कि अगर चालक बाइक चलाते वक्त भी अगर हेलमेट उतारेगा तो उसके बाइक का इंजन अपने आप बंद हो जाएगा.


Read: अपने अविष्कारों से इन महान वैज्ञानिकों ने गढ़ी अपनी ही मौत की कहानी


दरअसल हिमांशु ने हेलमेट के साथ एक ऐसा उपकरण फिट किया है जो बाइक के इंजन के इग्नीशन सिस्टम से जुड़ा होगा. चालक जैसे ही हेलमेट का स्ट्रैप लगाएगा, इंजन का इग्नीशन सिस्टम चालू हो जाएगा. और जैसे ही चालक द्वारा स्ट्रैप को खोला जाएगा इंजन का इग्नीशन बंद हो जाएगा. इस उपकरण के साथ एक सूक्ष्म सोलर पैनल लगा होगा जो कि इस उपकरण को चार्ज करता रहेगा.


big_lead_in


अगर हिमांशु के इस हेलमेट के नमूने को स्वीकार किया जाता है और इसका औद्योगिक उत्पादन शुरू किया जाता है तो इसकी कीमत आम हेलमेट की तुलना में कुछ अधिक होगी.  मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव ने कहा कि राज्य सरकार प्रतिभावान विद्यार्थियों की प्रतिभा को निखारने और उनकी मदद के लिए हर कदम उठाएगी, ताकि उनकी प्रतिभा समाज और देश के हित में लगाया जा सके.


Read: वैज्ञानिकों का दावा पेट्रोल और डीजल से कहीं अधिक सस्ता होगा यह ईंधन


बहरहाल हिमांशु के लिए यह पहला प्रयोग नहीं है. इससे पहले हिमांशु ने एक ऐसी तकनीक विकसित की थी जिससे ट्रेनों के बीच टक्कर को रोका जा सकता है. यह तकनीक दो रेलगाड़ी अगर एक ट्रेक पर आ जाए तो उन्हें एक दूसरे से 300 मीटर की दूरी पर ही रोक देती है. हिमांशु ने बताया की उनके इस तकनीक की सराहना पूर्व रेलमंत्री ममता बनर्जी ने भी की थी. Next…


Read more:

भारतीय इतिहास के इन अद्भुत तथ्यों को जान लेने के बाद सचमुच आप गौरवान्वित महसूस करेंगे

इन चीजों का हुआ अविष्कार और देखते-देखते बदल गए आप

खोज निकाला वह पर्वत जिससे हुआ था समुद्रमंथन


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग