blogid : 314 postid : 600274

Narendra Modi: उत्थान अवसान का सियासती गान - मोदी की ताजपोशी

Posted On: 13 Sep, 2013 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1427 Posts

925 Comments

कई दिनों चल रही जद्दो जहद के बाद भारतीय जनता पार्टी ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को अगले लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया. लेकिन इस बार भी पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को नजरअंदाज कर दिया गया.


पहले भी किया नजरअंदाज

आपको याद हो जब गोवा में इसी साल नरेंद्र मोदी को भाजपा की तरफ से चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया गया उस समय भी लालकृष्ण आडवाणी काफी नाराज रहे. आडवाणी खराब तबीयत का बहाना बनाते हुए बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में शामिल नहीं हुए. जिसके बाद पार्टी ने उन्हें नजरअंदाज करके मोदी को चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बना दिया.


प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद मोदी को लेकर अब उम्मीदें बढ़ गई हैं. उनके सामने जो मुख्य रूप से चुनौतियां है वह इस प्रकार है.

1. क्या नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी को विजय दिला पाएंगे?

2. क्या मोदी उन मोर्चों पर सफल हो पाएंगे जहां आडवाणी 2009 में नाकामयाब रहे थे?

3. क्या भाजपा के पुराने नेता और सहयोगी प्रधानमंत्री के तौर पर मोदी को स्वीकार कर पाएंगे?

4. सवाल यह भी है कि क्या 2009 के आडवाणी के मुकाबले मतदाताओं में मोदी को लेकर ज्यादा आकर्षण है?

5. मोदी के समर्थकों और विरोधियों, दोनों में उनकी मुस्लिम विरोधी छवि है. इसलिए क्या उनकी मुस्लिम विरोधी छवि भारत की 80 फीसदी हिंदू जनसंख्या में भाजपा के समर्थन का सैलाब पैदा कर सकेगी?

6. एक अन्य सवाल यह भी है कि नरेंद्र मोदी की छवि एक ‘विकास पुरुष’ की बनाई गई है. कहा जाता है कि उन्होंने आर्थिक विकास के बूते अपने राज्य में खुशहाली पैदी की. वे अपनी इस उपलब्धि का जिक्र हर मंच पर जमकर करते भी हैं. अब सवाल उठता है कि गुजरात में सुशासन का मोदी का दावा क्या भारत के 80 करोड़ वोटरों का उतना हिस्सा अपनी तरफ खींच पाएगा जिसके बल पर उनकी पार्टी की सरकार बन सके.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग