blogid : 314 postid : 1390394

रात को लेजर लाइट से चमकेगा ‘राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक’, जानें और क्या हैं खास बातें

Posted On: 30 Jan, 2019 Hindi News में

Pratima Jaiswal

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1601 Posts

925 Comments

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के मौके पर पीएम मोदी डांडी में एक कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां पीएम मोदी यहां गुजरात के ऐतिहासिक गांव दांडी में 110 करोड़ रुपये की लागत में तैयार हुए ‘राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक’ का उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा मोदी सूरत में वे हवाईअड्डे पर टर्मिनल भवन के विस्ताऐर परियोजना की आधारशिला रखेंगे। वहीं न्यू इंडिया यूथ कॉनक्लेव में युवाओं के साथ बातचीत करेंगे। आज के इस दौरे में सबसे खास है नमक सत्याग्रह स्मारक जिसके बारे में लोगों को जानने की दिलचस्पी है। आइए, जानते हैं क्या है इस स्मारक में खास। साथ ही जानें क्या था दांडी मार्च।

 

 

क्या था दांडी मार्च
अंग्रेजों ने नमक उत्पादन और उसके विक्रय पर भारी मात्रा में टैक्स लगा दिया था। जिससे उसकी कीमत कई गुना तक बढ़ गई थी। अंग्रेजी शासन के दौरान भारत की अधिकतर गरीब जनसंख्या के खाने का नमक ही एक सहारा बचा था। उसपर भी अधिक कर होने से वे उसे खरीद पाने में असमर्थ थे।
गांधी जी ने नमक कानून के खिलाफ 1930 में 12 मार्च से 6 अप्रैल तक साबरमती से दांडी तक पदयात्रा निकाली थी। जिसे दांडी मार्च कहा जाता है। इसमें बड़ी संख्या में लोगों ने बापू का साथ दिया था। इस ऐतिहासिक मार्च को जीवंत करने के उद्देश्य से ये स्मारक बनाया गया है।

 

 

18 फीट ऊंची बापू की मूर्ति
नमक सत्याग्रह समारक में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 18 फीट ऊंची मूर्ति बनाई गई है। इसके अलावा यहां खारे पानी के कृत्रिम तालाब भी बनाए गए हैं। इसका उद्धाटन बापू की 150वीं जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। जनता इसे 30 जनवरी से देख पाएगी। ये स्मारक देश दुनिया में आकर्षण का केंद्र बनेगा। यहां बापू के दांडी मार्च को दर्शाया गया है।

 

 

 

नमक बनाने की प्रक्रिया देख पाएंगे लोग
यहां आने वाले लोग नमक बनाने की प्रक्रिया देख सकेंगे। इस प्रक्रिया में पर्यटक पैन में खारा पानी डालेंगे। जिसके बाद पैन में लगी हुई मशीन पानी का वाष्पीकरण करेगी। फिर पैन में नमक रह जाएगा।

 

 

 

 

रात को लेजर से चमकेगा क्रिस्टल
स्मारक में 80 पदयात्रियों की प्रतिमा बनाई गई है। यहां नमक बनाने के लिए सोलर मेकिंग बिल्डिंग वाले 14 जार भी रखे गए हैं। इसके अलावा सबसे अधिक आकर्षण का केंद्र क्रिस्टल होगा। जो रात के समय लेजर से चमकेगा। इसके साथ ही यहां 24 स्मृतिपथ भी बनाए गए हैं। जो दिखने में बेहद खूबसूरत हैं।

 

 

अगर आप भी दांडी मेमोरियल में घूमने की प्लानिंग बनाएं, तो यहां गेस्ट हाउस की सुविधा भी है, जिसमें आप रूक सकते हैं। साथ ही म्यूजियम को देखकर आपको उस ऐतिहासिक यात्रा की जानकारी होगी…Next 

 

 

Read More :

ट्रैवल रिस्क मैप के मुताबिक ये देश हैं सबसे ज्यादा खतरनाक, भारत के इन राज्यों में ज्यादा खतरा!

सुप्रीम कोर्ट में घूमने के लिए जा सकते हैं आम लोग, जानें कैसे मिल सकती है एंट्री

क्या है RBI एक्ट में सेक्शन 7, जानें सरकार रिजर्व बैंक को कब दे सकती है निर्देश

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग