blogid : 314 postid : 1103362

इस नौजवान को किसी भी वक्त दी जा सकती है "मौत की सजा"

Posted On: 29 Sep, 2015 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1625 Posts

925 Comments

सऊदी अरब न्यायालय ने अली मोहम्मद अल निमर का सिर कलम करके मौत की सजा सुनाई है. अली मोहम्मद अल निमर एक नौजवान लड़का है जिसका दोष बस इतना है कि वह सऊदी अरब के सड़कों पर लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन कर रहा था. निमर को 2012 में सऊदी प्रशासन ने विरोध प्रदर्शन को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया था तब उसकी उम्र 17 साल थी. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार से लेकर दुनियाभर के देशों ने सऊदी सरकार के इस फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई है.



SAUDI


2014 में निमर को सरकार विरोधी गतिविधियों में हिस्सा लेने और आग्नेयास्त्र (फायर-आर्म्स) रखने के आरोप में सूली पर चढ़ाकर मौत की सजा सुनाई गई थी. 23 सितंबर 2015 को निमर की अंतिम याचिका भी खारिज हो गई थी. इसी के साथ निमर के सारे विकल्प बंद हो गए हैं. अब निमर को किसी भी समय सऊदी सरकार फांसी दे सकती है.


Read: दुश्मन को भी न मिले ऐसी मौत की सजा, जानिए इतिहास की सबसे क्रूरतम सजाएं



निमर की सजा पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तीखी प्रतिक्रिया हुई है. संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार विशेषज्ञों के एक समूह ने इसे अंतरराष्ट्रीय कानून के लिए प्रतिबद्धता का सरासर उल्लंघन बताया है. इसी घटना पर ऐतराज जताते हुए एनोनिमस नामक हैकर्स एक्टिविस्ट के एक समूह ने 26 सितंबर को सऊदी सरकार की कई वेबसाइट बंद कर दिए. इसके बाद ट्विटर पर हैशटैग (#) OpNimr के साथ निमर को मौत की सज़ा देने के विरोध में प्रतिक्रियाओं की झड़ी लग गई.



salman1


साथ ही इन एक्टिविस्ट के समूहों ने सऊदी सरकार और सऊदी के राजकुमार सलमान के नाम एक बयान जारी कर कहा है कि “अगर एक निर्दोष नौजवान लड़के को सऊदी अरब में मौत की सजा दी गई तो हम चुपचाप नहीं रहेंगे”. 13 जजों के बैंच ने निमर की मौत की सजा पर मुहर लगा दिया है. अब सिर्फ राजकुमार सलमान की ही सहमति बाकी है.



JAGRAN 5

Read: सिकंदर के सैनिकों का वंशज है यह गांव, नहीं चलता यहां भारतीय कानून!


फ्रांस के राष्ट्रपति ने निमर की मौत की सजा पर रोक लगाने की अपील की है. अन्य देशों के प्रमुख ने भी निमर के समर्थन में आए हैं. ब्रिटेन के नेता जेरेमी कोरबाइन ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन को चिट्ठी लिखकर इस मामले में दखल देने की मांग की है.Next…



Read more:

पाकिस्तान में भूख से लड़ रही है भारत की ये आर्मी

वह 9 महीने तक अपने पति की लाश के साथ रहकर उसके सड़ने का इंतजार करती रही… यह मजबूरी थी या पागलपन!!

आज भी एक घर में दफ्न है उसकी दर्दनाक मौत की कहानी, पढ़िए लंदन के इतिहास में दर्ज एक रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग