blogid : 314 postid : 1186665

गांववालों के लिए हीरो बना कुत्ता, कर दिखाया ये कारनामा

Posted On: 6 Jun, 2016 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1625 Posts

925 Comments

इंसान का सबसे अच्छा दोस्त होता है कुत्ता. जिसके वफादारी के किस्से तो आपने जरूर सुने होंगे. इनमें से कुछ किस्से तो ऐसे होते हैं जिन्हें सुनकर खुद इंसान भी इनके गुणों को, अपने मानवीय गुणों से बेहतर समझने लगता है. ऐसा ही एक हैरान कर देने वाला वाक्या पेश आया उत्तरप्रदेश के शाहजहांपुर से. जहां पर एक पालतू कुत्ते ने अपनी जान देकर अपने मालिक की जान बचा ली. दरअसल, दुधवा नेशनल पार्क के पास स्थित एक गांव में किसान गुरदेव सिंह अपने पालतू कुत्ते जैकी के साथ बाहर सो रहे थे. वो बहुत गहरी नींंद में थे.



tiger and dog fighting(सांंकेतिक तस्वीर)

तभी जंगल की तरफ से एक बाघ आ गया. गुरदेव के कुत्ते जैकी ने भौंक-भौंककर उन्हें नींद से जगाने की बहुत कोशिश की, लेकिन गहरी नींद में होने की वजह से वो नहीं उठे. थोड़ी देर बाद जब उनकी आंखें खुली तो, वो सामने का दृश्य देखकर हैरान रह गए. सामने बाघ और जैकी एक-दूसरे से लड़ रहे थे. इस दौरान गुरदेव सिंह ने आसपास के लोगों को मदद के लिए आवाज लगाई लेकिन अपने पास गांववालों को आता देखकर बाघ जैकी से लड़ता हुआ जंगल की ओर निकल गया. दोनों को जंगल में जाता देखकर गुरदेव सिंह समेत गांववाले लाठी लेकर जैकी की मदद के लिए जंगल की ओर दौड़ पड़े.



village

Read : आपके पालतू जानवर गिनीज बुक में आपका नाम दर्ज करवा सकते हैं

उन्होंने पूरे जंगल में जैकी को तलाश करने की बहुत कोशिश की लेकिन कई घंटों की मेहनत के बाद भी जैकी नहीं मिल पाया. अंत में ढूंढ़ते- ढूंढ़ते जैकी का शव जंगल से देर रात बरामद हो गया. गांववालों ने गांव के रिहाइशी इलाके में बाघ के घुसने की सूचना वन विभाग को दी. वहीं दूसरी तरफ अपने पालतू कुत्ते की मौत से पूरा परिवार बेहद आहत दिखा. किसान गुरदेव सिंह का कहना था कि जैकी की मां स्ट्रीट डॉग थी. जब जैकी का जन्म हुआ तो उनके दोनों बेटे सुप्रीत और गुलशनप्रीत जैकी को अपने घर ले आए.



tiger 1

जैकी की उम्र करीब 4 साल थी. वो घर में सबसे बेहद प्यार करता था. हादसे के बाद से गुरदेव सिंह के घरवालों ने कुछ भी नहीं खाया है. पूरा परिवार अपने प्यारे जैकी को खो देने के गम से उबर नहीं पा रहा है. उल्लेखनीय है कि फॉरेस्ट रेंजर एस.एन यादव ने बताया कि बरगटपुर लखीमपुर खीरी के जंगल से बेहद करीब पड़ता है. जंगल के आधे से ज्यादा इलाकों पर लोगों ने रिहाइश शुरू कर दी है जिससे जंगल सिमटता जा रहा है और गांव में जंगली जानवरों की घुसपैठ का डर बना रहता है…Next


Read more

दंग रह गया मालिक जब महीनों बाद अपने खोये हुए कुत्ते से उसी जगह मिला

पत्थर में बदला कुत्ता, इस युग के राम आए उद्धार करने के लिए

वैज्ञानिकों का मानना है, पेशेवर पायलटों को पछाड़ कर अब कुत्ते उड़ाएंगे हवाई जहाज!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग