blogid : 314 postid : 817475

बेड़ियों से बंधे इस बच्चे का क्या था गुनाह, जिसने पुलिस को ही जांच के घेरे में ला दिया

Posted On: 16 Dec, 2014 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1404 Posts

925 Comments

तस्वीर में बेड़ियों से बंधे जिस 13 साल के बच्चे को आप देख रहे हैं वह बच्चा हैदराबाद में चंद्रायनगुट्टा का रहने वाला है जिसे पुलिस ने मामूली सी चोरी के लिए गिरफ्तार किया है. उनकी यह कार्यवाही पुलिस प्रशासन के लिए सिरदर्द साबित हो रही है.


KID


दरअसल जिनती उम्र इस बच्चे की है उस हिसाब से पुलिस को न तो इसे जेल में रखने का अधिकार है और न ही बेड़ियों से बांधने का. लेकिन नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पुलिस ने इसे जेल के अंदर हतकड़ियों से बांध दिया.


Read: बेड़ियों में जकड़ कर क्यों पागलखाने पहुंचा दिया गया था बोल्डनेस की मिसाल कायम करने वाली इस अभिनेत्री को?


बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ने वाले एक कार्यकर्ता के मुताबित “नाबालिक को न तो पुलिस स्टेशन में रखा जाना चाहिए था और न ही उसे बेड़ियों से बांधे जाना चाहिए था, अगर बच्चे ने अपराध किया है तो उसे सुधार गृह में ले जाना सही कार्यवाही होती, पुलिस ने यह कार्यवाही करके बाल अधिकार नियमों का उल्लंघन किया है.


“उधर साउथ जोन के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि इस तरह की कार्यवाही नियमों के खिलाफ है, इस संबंध में हमने जांच के आदेश दे दिए हैं”.


Read: 11 साल के बच्चे ने आइंस्टीन और हॉकिंस को आईक्यू के मामले में पछाड़ दिया… पढ़िए कुदरत का एक और चमत्कार


चंद्रायनगुट्टा पुलिस के मुताबिक बच्चे ने पड़ोस में एक महिला का मोबाइब फोन चुराया था. उसके कब्जे से जब फोन बरामत हुआ तो उसे पड़ोसियों ने पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस ने उसे जेल में डालकर पैरों में बेड़ियां बांध दी.


बच्चे ने पुलिस को बताया कि उसने फोन की चोरी नहीं की. कुछ दिनों के लिए उसे यह फोन उसके किसी परिचित ने दी थी. सुत्रों के मुताबिक पुलिस उसे हिरासत में लेकर असली चोर की जानकारी ले रही है…..… Next


Read more:

क्यों बच्चे भी कर रहें हैं यौन अपराध…आपकी ये कोशिशें बदल सकती हैं हालात

गुलामी की बेड़ियों को शिथिल करने वाले पहले राजनीतिज्ञ

एक गाँव जहाँ जुड़वा बच्चों के पैदा होने पर सिर खुजलाते हैं डॉक्टर



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग