blogid : 314 postid : 2307

ममता को प्रदेश नहीं वोट की चिंता

Posted On: 27 Feb, 2013 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1625 Posts

925 Comments

Kolkata fireपश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता एक बार फिर उस समय भीषण आग की चपेट में आ गया जब लोग रात की नींद पूरी करके अगली सुबह उठने की तैयारी में लगे हुए थे. कोलकाता के सूर्यसेन बाजार में बुधवार सुबह 4 बजे आग लग गई जिससे 19 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हो गए. मौके पर पहुंची दमकल की 25 गाड़ियों ने तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया.


Read: धोनी ऐसे ही नहीं बने क्रिकेट के धुरंधर


बताया जा रहा है कि ये आग शार्ट सर्किट होने की वजह से लगी. आग कागज के एक गोदाम में लगी और फिर चारों ओर फैल गई. हालांकि पुलिस अभी इसकी जांच कर रही है. मरने वालों में वह लोग अधिक थे जो काम के बाद दुकान में सो जाया करते थे. सूर्यसेन बाजार में लगी आग ने कोलकाता प्रशासन की खामियों को एक बार फिर उजागर कर दिया. अकसर देखा गया है कि शार्ट सर्किट की वजह से लगने वाली आग की लपटों में वह मार्केट अधिक आते हैं जो अवैध तरीके से चलाए जाते हैं.


Read: बजट का राजनीतिक इस्तेमाल ही अधिक होता है !!


प्रशासन और व्यापारियों के गठजोड़ के चलते इस तरह के जगहों में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा का घोर अभाव होता है. वैसे यह पहली घटना नहीं जब प्रशासन की खामियों की वजह से लोगों ने अपनी जान गंवाई है. इससे पहले दिसम्बर 2011 में कोलकाता के एएमआरआई अस्पताल में लगी भीषण आग से 94 लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. राष्ट्रीय स्तर पर ममता और उनके प्रशासन की काफी आलोचना की गई थी.


अपने विरोधियों को उसकी हद समझाने वाली ममता बनर्जी आजकल 2014 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई हैं. लेकिन ममता को यह नहीं भूलना चाहिए जब से उन्होंने मुख्यमंत्री का पद संभाला है तब से राज्य कई भीषण घटनाओं का सामना कर चुका है. इसलिए आगामी चुनाव को देखते हुए ममता जो आस लगाए बैठी हैं कहीं उस पर पानी न फिर जाए.


Read:

क्यूं हैं ममता बनर्जी विश्व की सबसे प्रभावशाली शख्सियत?

ममता बनर्जी की मजबूरी


Tag: Kolkata Fire, Sealdah market fire, Mamata Banerjee, Fire,  कोलकाता आग, ममता बनर्जी, ममता, पश्चिम बंगाल.


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग