blogid : 314 postid : 1390616

'मैं भी चौकीदार' कैम्पेन की सोशल मीडिया पर हो रही है चर्चा, इन नेताओं ने नाम के साथ लगाया 'चौकीदार'

Posted On: 18 Mar, 2019 Hindi News में

Pratima Jaiswal

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1616 Posts

925 Comments

पहले 3 मिनट 45 सेकेंड के एक वीडियो के साथ ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान का आगाज हुआ। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर पीएम मोदी समेत कई बीजेपी नेताओं ने अपने नाम के आगे चौकीदार शब्द जोड़ दिया। वहीं, सोशल मीडिया यूजर भी इस कैम्पेन के बारे में जमकर चर्चा कर रहे हैं।
2014 में जहां पीएम मोदी ने चायवाला शब्द पर जोर दिया था, वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव में ‘चौकीदार’ कैम्पेन को एक चुनावी रणनीति के तौर पर माना जा रहा है।

 

 

राहुल ने दिया नारा!
गौरतलब है कि मोदी अक्सर स्वयं को ऐसा ”चौकीदार” बताते आए हैं जो भ्रष्टाचार को अनुमति नहीं देगा और न ही स्वयं भ्रष्टाचार करेगा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल लड़ाकू विमान समझौते में कथित अनियमितताओं को लेकर मोदी पर बार-बार निशाना साधकर कहते रहे हैं, ”चौकीदार चोर है।” अब विपक्ष के इसी हमले को भाजपा ने अपने चुनावी प्रचार में शामिल कर लिया है। 2014 के लोकसभा चुनाव में मणिशंकर अय्यर के ‘चायवाला’ टिप्पणी को भी भाजपा ने चुनाव अभियान का हिस्सा बनाया था।

 

 

 

भाजपा नेताओं, कार्यकत्ताओं के साथ आम लोग भी बनवा रहे हैं टैटू
भाजपा कार्यकर्ताओं ने ना सिर्फ सोशल मीडिया पर अपना नाम बदला बल्कि टैटू बनवा कर अभियान को समर्थन भी किया। आइए, जानते हैं अभी तक किन नेताओं ने नाम के साथ जोड़ा चौकीदार।

अमित शाह
किरण खेर
तजिंदर बग्गा
आरपी सिंह
स्मृति ईरानी
विजेंद्र गुप्ता
पीयूष गोयल
मुकुल राय
राजनाथ सिंह
निर्मला सीतारमण
जेपी नड्डा
प्रकाश जावेडकर
इन नेताओं के अलावा बीजेपी के कई नेताओं ने नाम के आगे चौकीदार शब्द जोड़ दिया।

 

 

बग्गा का है आईडिया!
कहा जा रहा है कि नाम के आगे चौकीदार लगाकर मैं भी चौकीदार मुहिम को धार देने का आइडिया तेजिंदर सिंह बग्गा का रहा। उन्होंने ही सबसे पहले 15 मार्च को नाम के आगे अपने चौकीदार लगाकर सपोर्टर्स से अपील की। यह मुहिम रविवार को परवान चढ़ गई, जब खुद पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी अपने नाम के आगे चौकीदार लगा लिया।…Next

 

Read More :

क्या है वीटो पावर जिसका इस्तेमाल कर आतंकी मसूद का बैन प्रपोजल चीन किया रिजेक्ट

पाकिस्तान को सता रहा है ब्लैकलिस्ट होने का डर, जानें क्या है FATF की ग्रे लिस्ट जिसमें नाम आना बन सकता है मुसीबत

लोकसभा चुनाव 2019 : पहली बार लागू हुए ये नियम, एक महीने तक दिखेगा चुनावी रंग

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग