blogid : 314 postid : 1733

Phone security: ऐसी कॉल से बचें

Posted On: 3 Jul, 2012 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1623 Posts

925 Comments

When a stranger calls

आज मोबाइल हर इंसान की जिंदगी का अहम हिस्सा है. मोबाइल के बिना किसी व्यक्ति की जिंदगी अधूरी है. यह मोबाइल सुबह-शाम हमारी जिंदगी के हर राज का गवाह बनता है. लेकिन सोच कर देखिए अगर ये राज किसी को पता चल जाएं तो ! आधुनिक समय में अगर यह गैजेट्स हमारे सबसे अच्छे दोस्त हैं तो इन्हें दुश्मन बनते भी ज्यादा देर नहीं लगती.

Rahul Gandhi’s Girlfriend


Mobile Fraud

यूं तो मोबाइल पर फर्जीवाड़ा कोई नई बात नहीं है लेकिन अब एक नया फर्जीवाड़ा आया है मोबाइल सिम क्लोनिंग का. आजकल कई मोबाइल यूजर्स को +375 से एक कॉल आ रहा है. जब आप +375 कोड से शुरू होने वाले नंबर पर वापस कॉल करते है तो आप अश्लील आवाजें और बातचीत सुनेंगे.


What to do when a stranger calls

+375 Wrong Number

पिछले कुछ दिनों में भारत के बहुत से मोबाइल यूजर्स ने सूचित किया है कि उन्हें एक अंतरराष्ट्रीय कोड +375 से शुरू होने वाले अंतरराष्ट्रीय नंबर से मिस कॉल मिला है.


मिस कॉल का जवाब देने के लिए परेशान न हों क्योंकि यह धोखेबाजों का पैसा कमाने का नया तरीका है.  जब आप +375 कोड से शुरू होने वाले नंबर पर वापस कॉल करते हैं तो आपको अश्लील आवाजें तथा बातचीत सुनाई देंगी तथा आपका सर्विस प्रदाता आपके खाते से 15 से 20 रुपये तक काट लेगा.


इस साल की जनवरी में वोडाफोन को ऐसी ही शिकायतें मिली थीं तथा उसने देश में अपने ग्राहकों से ऐसी कॉल्स को नजरअंदाज करने को कहा था. वोडाफोन ने एक बयान में कहा, हम अपने ग्राहकों से गुजारिश करते हैं कि कृपया ऐसे कॉल्स को नजरअंदाज करें तथा उन नंबरों पर वापस कॉल न करें.  ऐसे कॉल को पाने के मामले में, हम ग्राहकों से निवेदन करते हैं कि वे कस्टमर केयर को कॉल करें तथा हमें ऐसे नंबरों के बारे में सूचित करें.


पिछली बार जब भारत में मोबाइल यूजर्स को अंतरराष्ट्रीय नंबरों से कॉल मिले थे तो ये लॉटरी की धोखाधड़ी से संबंधित थे. ऐसी भी अफवाहें हैं जिनमें कहा गया है कि यदि आप ऐसे नंबरों पर वापस कॉल करते हैं तब आपके फोन में स्टोर किया गया डाटा और सूचनाएं कॉपी या चुरा ली जाएंगी लेकिन यह संभव नहीं है.


Mobile Spy

इस मिस कॉल धोखाधड़ी के पीछे धोखेबाजों के द्वारा अपनाई गई रणनीति सरल है, पहले वे टेलीकॉम प्रदाता से प्रीमियर-दर नंबर लेते हैं तथा फिर पहले से न सोचे गए लोगों को मिस कॉल देते हैं.  कॉल वापस के रूप में, वे उच्च प्रभार का भुगतान करते हैं तथा पैसे का एक भाग धोखेबाजों के खाते में चला जाता है, जो कि प्रीमियर नंबर लेते हैं. भारत में यह नए तरह की धोखेबाजी है लेकिन यूरोपियन तथा पश्चिमी देश इससे एक दशक से भी ज्यादा समय से भुक्तभोगी हैं.


वैसे तो इस तरह के मामलों में हमारी सरकार को उचित कदम उठाने चाहिए, लेकिन फिर भी मोबाइल यूजर्स को सावधान रहना चाहिए क्योंकि जानकारी ही बचाव है.


What is Mobile Cloning

सिम क्लोनिंग समानान्तर कनेक्शन है जिसमें एक ही नंबर को क्लोन कर उसका गलत इस्तेमाल किया जाता है. जिस व्यक्ति के पास यह क्लोन्ड सिम कार्ड होता है वह असली कार्ड वाले के सारे फोन सुन सकता है और टैप भी कर सकता है. यह क्लोनिंग केवल आपके सिम कार्ड तक ही सीमित नहीं होगी, बल्कि फोन में मौजूद मेमरी कार्ड और डाटा कार्ड को भी दूसरी ओर से कॉपी कर लिया जाएगा. आपकी जरा सी लापरवाही आपके लिए एक बड़ी समस्या बन सकती है.


Tips to Avoid Mobile Cloning

अगर आप इन झंझटों से बचना चाहते हैं तो आपके लिए सबसे बेहतर तरीका यही होगा कि आप अपना सिम नंबर सुरक्षित रखें. किसी को भी चाहे वह कितना करीबी हो यह नंबर न बताएं.  अच्छा तो यही होगा कि किसी को अपना मोबाइल ही न दें. यह आपके सिम कार्ड को सुरक्षित रखने में आपकी मदद करेगा.


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग