blogid : 314 postid : 1159

शांति भूषण - कानून के माहिर खिलाड़ी

Posted On: 8 Sep, 2011 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1581 Posts

925 Comments

भ्रष्ट सिस्टम के खिलाफ लड़ने वाले शांति भूषण पूर्व कानून मंत्री और वकील रह चुके हैं साथ ही वह लोकपाल पर विचार के लिए बनी संयुक्त समिति के को-चेयरमैन भी हैं. 80 साल के शांति भूषण, सीजेएआर यानी कैंपेन फॉर जूडीशियल एकाउंटबिलिटी एंड जूडीशियल रिफॉर्म्स के बैनर तले पिछले कई सालों से न्यायपालिका में सुधारों के लिए संघर्ष करते रहे हैं.


shanti-bhushan-photoआज अन्ना हजारे देश में जनता के हक के लिए लड़ रहे हैं लेकिन शांति भूषण देश के लिए कोई नई शख्सियत नहीं है. जनता के हक की लडाई शांति भूषण एमरजेंसी के दौर से ही लड़ रहे हैं. जब इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल की घोषणा की थी, तब उसका विरोध करने वालों में शांति भूषण ही सबसे आगे थे. शांति भूषण ने ही इंदिरा गांधी के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट में राजनारायण का मुकदमा भी लड़ा था जिसमें इंदिरा गांधी को हार का सामना करना पड़ा था. बाद में जब मोरारजी देसाई के नेतृत्व में जनता पार्टी की सरकार बनी तब शांति भूषण को कानून मंत्री बनाया गया था. कानून मंत्री रहते हुए ही उन्होंने पहली बार देश में 1977 में लोकपाल बिल बनाया था जो सरकार गिरने की वजह से पास नहीं हो सका था.


पिता शांति भूषण और पुत्र प्रशांत भूषण की जोड़ी ने हमेशा ही जनता के हक की लड़ाई लड़ी है और भविष्य में भी दोनों का लक्ष्य देश में साफ-सुथरी न्याय व्यवस्था लाने का ही है.


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग