blogid : 314 postid : 1291191

महिला कांस्टेबल के 7 लाख फेसबुक यूजर्स, कहानी जानकर आप भी लाइक करेंगे इनके पेज को

Posted On: 4 Nov, 2016 Hindi News में

समाचार ब्लॉगदुनियां की हर खबर जागरण न्यूज के साथ

Hindi News Blog

1623 Posts

925 Comments

कहते हैं अगर कोई चीज वक्त पर न मिले तो उसका मिलना या न मिलना एक बराबर होता है. जैसे किसी इंसान की जान अगर पैसों की मोहताजी की वजह से न बच पाए, तो बाद में चाहे उसके परिजनों के पास कितनी भी दौलत क्यों न आ जाए, सब व्यर्थ ही लगता है. बल्कि कभी-कभी तो मन को ये बात कचोटती है कि काश! वक्त पर पैसे मिल जाते. जिंदगी की अनगिनत ऐसी कहानियों में से एक है स्मिता टंडी की कहानी. जिन्होंने अपने दुख को खुद पर हावी न करके, अपने दर्द को दुनिया के लिए दवा बना दिया.



smita new

स्मिता के लिए वो दिन किसी सदमे से कम नहीं है जब 2013 में वो पुलिस ट्रेनिंग पर गई और उनके पिता शिव कुमार टंडी बीमार पड़ गए. उनके पास उस वक्त ईलाज के पैसे नहीं थे. स्मिता के पिता शिव कुमार भी एक कांंस्टेबल थे. जिन्हें एक दुर्घटना की वजह से 2007 में रिटायरमेंट दे दिया गया था. आर्थिक स्थिति ठीक न होने की वजह से उनका ऑपरेशन बड़े अस्पताल में नहीं हो पाया और उनकी मौत हो गई.



smita tandi


स्मिता को अपने पिता की मौत का सदमा लगने से ज्यादा ये बात चुभती थी कि महज चंद रुपयों की वजह से, वो अपने पिता को बचा नहीं पाई. तब से स्मिता ने पैसों की कमी की वजह से मौत की भेंट चढ़ते लोगों की मदद करनी शुरू कर दी. उन्होंने इस काम के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया.



smita-tandi55


उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर पैसों की कमी से जूझते मरीजों के परिजनों को मदद पहुंचाने का भरोसा दिलाया. साथ ही साल 2014 में उन्होंने एक फेसबुक ग्रुप भी बनाया, जिसमें उन्होंने ईलाज के लिए आर्थिक सहायता के लिए लोगों को अपने साथ जोड़ा. आपको जानकर हैरानी होगी की स्मिता ने खुद के खर्चे से अब तक करीब 100 लोगों का ईलाज करवाया है. छत्तीसगढ़ निवासी स्मिता के फेसबुक पेज को 7 लाख से ज्यादा यूजर्स फॉलो कर रहे हैं…Next


Read More :

यहां पुलिस की इन महंगी कारों में बैठने के लिए लोग होते हैं खुद गिरफ्तार

इतनी बड़ी संख्या में दीमक लगे नोट को देखकर पुलिस के उड़े होश

2 साल बाद इस महिला की असलियत आई सामने, पुलिस हैरान


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग