blogid : 11833 postid : 66

London Olympic 2012: प्रदर्शन के लिए हैवान बन जाते थे खिलाड़ी

Posted On: 7 Aug, 2012 Others में

Olympic 2012लंदन ओलंपिक पर गहरी नजर

London Olympic 2012

19 Posts

6 Comments

eatकिसी खेल का खिलाड़ी जब मैदान पर मौजूद होता है तो उसके सामने एक ऐसा प्रतिद्वंदी खड़ा रहता है जिसको पराजित करना उसके जीवन का मुख्य ध्येय होता है. अपने विरोधी खिलाड़ी को हराने के लिए वह हर तरह के पैंतरे को अपनाता है. प्रतियोगिता शुरू होने से पहले योजनाएं बनाता है. अगर इसमें वह कामयाब न हो तो वह ऐसी चीज का इस्तेमाल करता है जिसके बारे में माना जाता है कि अगर कोई खिलाड़ी ले ले तो जीत पक्की है. यहां हम बात कर रहे हैं शक्तिवर्धक दवाओं की.


Read : भारत की प्रेरणादायक स्टार खिलाड़ी सायना नेहवाल


खेल और खिलाड़यों का शक्तिवर्धक दवाओं से नाता आज से नहीं बल्कि बहुत ही पुराना है. खिलाड़ी अपने प्रदर्शन में जान डालने के लिए प्राचीन काल से इस तरह के खुराक को अपनी डाइट में शामिल करते आ रहे हैं. आलम यह था कि उस समय खिलाड़ी अपने प्रदर्शन को मजबूत करने और खेल से प्रसिद्धि प्राप्त करने के लिए ओलंपिक जैसे खेल में भी जानवरों के अंडकोष को कच्चा चबाकर खा जाते थे और ऐसा माना जाता था कि इससे मर्दाना ताकत में काफी बढ़ोत्तरी होती है.


आज कल इसी शक्तिवर्धक खुराक को हम डोप के नाम से जानते हैं जिसका बड़ी मात्रा में खिलाड़ी खेल के दौरान इस्तेमाल करता है. समय के साथ-साथ इसके इस्तेमाल करने का तरीका भी बदला. खिलाड़ियों ने आज इसी खुराक को दवा के रूप या इंजेक्शन से कई बार अपने डाइट के साथ लेना शुरू कर दिया. इन दवाओं का प्रचलन इतना बढ़ चुका है यह आसानी बाजार में उपलब्ध हो जाते हैं.


पहले शक्तिवर्धक खुराक लेने पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं था. खिलाड़ी उन दिनों अपने थकान और दर्द को दूर करने के लिए कोकीन के टिंचर और शराब के घूंट दवा के तौर पर लेते थे. लेकिन आज इस तरह की दवाओं के इस्तेमाल पर पूरी तरह से प्रतिबंध लग चुका है. आज अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी डोपिंग को लेकर काफी सख्त हो गई.


खेलों को प्रतिस्पर्धात्मक बनाए रखने के लिए और प्रत्येक खिलाड़ी को बराबरी का मौका देने के लिए अंतराष्ट्रीय संघ ने इस तरह की दवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया है. लेकिन कहते हैं न नशे की लत ऐसी होती है कि अगर कोई इसमें पड़ जाए तो छूटते नहीं छूटती. लाख प्रतिबंध लगा लीजिए आज भी खिलाड़ी पाउडर और कैप्सूल के रूप में इन दवाओं का सेवन बड़े पैमाने पर कर रहे हैं और अपने स्पोर्ट कॅरियर के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं.


Read : सेक्स के प्रति एथलीटों को आकर्षित करता यह शोध


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग