blogid : 10385 postid : 51

कहते है गंगातीरथ एक बार सारे तीरथ बार बार|

Posted On: 14 Jan, 2013 Others में

rbi updatesJust another weblog

omshukla

45 Posts

24 Comments

महाकुम्भ की तयारी सुरु हो गयी है |  लोगो का उत्साह देखने लायक हो गया है | यह भीड़ सिर्फ भीड़ ही नहीं है परन्तु आस्था का पर्याय है| जो आस्था इस कुम्भ में आकर लोगो ने दिखाई है वोह तो काबिलेतारीफ है |बहुत साधू महात्मा तो महीनो से यहाँ डेरा डाले इस पल का इंतज़ार कर रहे थे और आज तो वोह पल है जब उनका ह्रदय प्रसंचित हो गया है | लोगो का हुजूम देख के तो लग रहा की कितना उत्साह है उनमे इस पावन  अवसर स्नान करने का |वैसे पहले सही स्नान होता है |फिर उसके बाद ही अन्य लोग स्नान करते है |

आज का दिन बड़ा ही पावन है क्योकि आज मकरसंक्रांति का त्यौहार भी है |और महाकुम्भ भी है | जो १२  वर्षो में परता  है | वोह भी इलाहाबाद  में जहा ३ नदियों का समागम होता है | कहते है इस कुम्भ में नहाने से इंसान अपने आप को पवित्र कर लेता है |और इस जनसमुदाय में आस्था ही दिखती है इतनी सर्दी में वोह भी प्रथा बेल में लोग इतने सर्द जल में नहाके अपने को moks का भागी बना रहे है| वैसे लोगो की सोच ही उन्हें  यहाँ  लायी है | एक सोच जो जिंदगी बदल दे |इंसान को एक दुसरे की मदद करते नहीं देखेंगे आप पर यहाँ यह देखने को मिल सकता है| वैसे साधू संतो का तो कमाई का सीजन भी हम कह सकते है |

आज के दिन दान का बहुत महत्व है और उसके बाद तिल कादान,और खाना और स्नान बहुत ही ज्यादा शुभ माना जाता है | कहते है गंगातीरथ एक बार सारे तीरथ बार बार|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग