blogid : 26149 postid : 1708

पहले अंतरिक्ष यात्री को स्पेस में लग गया था टॉयलेट, वैज्ञानिकों को मिशन रोककर उठाना पड़ा यह कदम

Posted On: 25 Jul, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

244 Posts

1 Comment

करीब 50 साल पहले यानी 1969 में इंसान ने पहली बार चांद पर कदम रखा था। ये अमरीका का अपोलो मिशन था, जो चांद पर पहुंचा था लेकिन इसकी तैयारी 60 के दशक से ही प्रारंभ हो गई थी। इस मिशन से पहले कई अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजा गया था, जिसके की अंतरिक्ष के बारे में उन पहलुओं को जाना जा सके, जिससे मिशन को आसान बनाने में मदद मिले। अपोलो मिशन की शुरुआत 1961 में हुई थी। अरबों डॉलर का ये प्रोजेक्ट उस समय नासा का सबसे महत्वाकांक्षी मिशन था। इसमें हजारों वैज्ञानिक शामिल थे। आख़िर में 33 अंतरिक्ष यात्रियों को चुना गया कि उन्हें ट्रेनिंग देकर चांद पर भेजा जाएगा। इस दौरान अंतरिक्ष में वक्त बिताने से जुड़ी कई कहानियां सामने आई, जो हमेशा के लिए इतिहास में दर्ज हो गई। आज हम आपको ऐसी ही एक कहानी के बारे में बताएंगे।

 

 

नासा के पहले अंतरिक्ष यात्री को ऐसे हुई समस्या
नासा के पहले अंतरिक्ष यात्री एलन शेपर्ड ने 1961 में उड़ान भरी थी। तब से लेकर सभी अपोलो मिशन के एस्ट्रोनॉट को उड़ान से पहले भरपूर नाश्ता दिया जाता था। एलन शेपर्ड को पोषण और कैलोरी से भरपूर ऐसा नाश्ता दिया गया था, जिसमें फ़ाइबर कम थे। ऐसा इसलिए किया गया था, ताकि उन्हें उड़ान के दौरान मल त्याग करने की ज़रूरत न हो। मिशन से पहले अंतरिक्ष यात्रियों को कॉफी लेने से भी रोका जाता था। लेकिन, पहले ही मिशन में एक बड़ी समस्या तब खड़ी हो गई, जब अंतरिक्ष यात्रियों को पेशाब लगने के सारे अनुमान असफल हो गए।

 

 

वैज्ञानिकों ने निकाला यह रास्ता

पहला मिशन केवल पंद्रह मिनट का था। डॉक्टरों ने सोचा कि इतनी देर तक तो एलन शेपर्ड का काम चल जाएगा लेकिन इस हिसाब-किताब में काउंटडाउन में लगने वाला समय जोड़ा ही नहीं गया। नतीजा ये हुआ कि अंतरिक्ष में पहुंचने के बाद एलन को पेशाब लग गया। उस दिन जे बारब्री, अमरीकी टीवी चैनल एनबीसी पर इस मिशन की कमेंट्री कर रहे थे। वो उस दिन को याद करते हुए कहते हैं, “उन्होंने एलन शेपर्ड को रॉकेट की नोक पर कैप्सूल में बंद कर के भेज दिया था। लेकिन, एलन के पेशाब करने की कोई व्यवस्था इस मिशन में नहीं की गई थी। दो घंटे बाद वो बार-बार मिशन कंट्रोल से इसकी इजाज़त मांगने लगे। आखिरकार, नासा के यात्रियों ने उन्हें इजाज़त दे दी कि वो अपने कपड़ों को ही गीला कर लें, लेकिन ऐसा करने के बाद उनके स्पेससूट के मेडिकल सेंसर खराब हो गए थे…Next

 

(‘इसरो’ ने चंद्रयान-2 का सफल प्रक्षेपण किया है इसलिए हम अंतरिक्ष से जुड़ी ‘Space Stories’ सीरीज चला रहे हैं। इस सीरीज में आपको अंतरिक्ष से जुड़ी हुई कई दिलचस्प कहानियां पढ़ने को मिलेगी)

 

Read More :

इतिहास रचने से पहले ये 5 शख्स हुए थे कई बार फेल

फोन उठाते ही क्यों बोलते हैं ‘हैलो’, इतिहास की इस लव स्टोरी में छिपी है वजह

इतिहास का सबसे अमीर शख्स, 24615980000000 रुपए का मालिक

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग