blogid : 26149 postid : 1792

वो काली सुबह जब एक-दूसरे का चेहरा भी नहीं पहचान पा रहे थे लोग, अमेरिका ने हमले के लिए इस वजह से नाकासाकी को चुना था

Posted On: 9 Aug, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

263 Posts

1 Comment

‘क्या यह मेरा अपना चेहरा है? मेरे मन में विचारों के कई सैलाब उमड़ रहे थे और मेरा अपना ही चेहरा शीशे में दिनों-दिन अजनबी होता जा रहा था’
जापानी लेखक मासूजी इब्यूज ने अपनी किताब ‘ब्लैक रैन’ (Black Rain) में नागासाकी और हिरोशिमा पर हुए परमाणु बम हमले को ऐसे ही कई शब्दों में बयां किया है। उनकी किताब में हमले के बाद का वो खौफनाक मंजर है, जिसे देखने भर से ही कोई संवेदनशील व्यक्ति की मौत हो सकती है।

 

 

2013 में रिलीज ‘वुल्वरिन’ फिल्म में नाकासाकी पर हमले का एक सीन

 

6 अगस्त का वो काला दिन
6 अगस्त 1945 जब अमेरिका ने हिरोशिमा पर परमाणु अटैक किया, तो आम लोगों को लगा कि शायद मौसम बिगड़ गया है और तूफान आने वाला है, लेकिन थोड़ी ही देर में चारों तरफ दर्दनाक चीखें थीं। आसमान काला हो चुका था और आसमान से चिपचिपी बारिश हो रही थी। शहर में गाड़ियां कम और लाशें बिखरी हुई थीं। लिटिल बॉय’ जब हिरोशिमा के वायुमंडल में फटा, तो 13 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में तबाही फैल गई थी। शहर की 60 फीसदी से भी अधिक इमारतें बर्बाद हो गईं थीं। उस समय जापान ने इस हमले में मरने वाले नागरिकों की आधिकारिक संख्या एक लाख 18 हज़ार 661 बताई थी। बाद के अनुमानों के अनुसार, हिरोशिमा की कुल तीन लाख 50 हजार की आबादी में से एक लाख 40 हजार लोग इसमें मारे गए थे। हिरोशिमा पर हमले के लिए काफी वक्त पहले से एक रणनीति तैयार की गई थी, जबकि जापान के एक और शहर नागासाकी पर 2 दिनों बाद परमाणु बम अटैक किया गया।
अब ऐसे में नागासाकी पर हमला क्यों किया गया ये सवाल उठता है।

 

नाकासाकी पर हमले वाले दिन की इतिहास में दर्ज तस्वीर

 

9 अगस्त को नाकासाकी पर इस वजह से किया गया हमला
अमेरिका का दूसरा परमाणु बम था ‘फैटमैन’, जो 4050 किलो का था। इस दूसरे बम के निशाने पर था औद्योगिक नगर कोकुरा। यहां जापान की सबसे बड़ी और सबसे ज़्यादा गोला-बारूद बनाने वाली फैक्टरियां थीं। इस समय बी-29 विमान 31,000 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था, जिसमें परमाणु बम रखा हुआ था। थोड़ी देर में बम को नीचे गिरा दिया गया और 52 सेकेंड के अंतराल में बम जमीन से टकराया। नागासाकी के समुद्र तट पर तैरती नौकाओं और बन्दरगाह में खड़ी तमाम नौकाओं में आग लग गई। नागासाकी शहर के पहाड़ों से घिरे होने के कारण केवल 6.7 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में ही तबाही फैल पाई। लगभग 74 हजार लोग इस हमले में मारे गए थे और इतनी ही संख्या में लोग घायल हुए थे। आज भी इन दोनों परमाणु हमलों को मानवता के लिए एक काले दिन के तौर पर याद किया जाता है।

 

2013 में रिलीज ‘वुल्वरिन’ फिल्म में नाकासाकी पर हमले का सीन

 

‘ब्लैक रैन’ में लिखे एक और अनुभव के अनुसार ‘कभी-कभी मैं सोचता हूं लोग कड़ी मेहनत करके पॉलिटिशियन क्यों बनते हैं, सिर्फ इसलिए कि वो कुछ गलत कर सकें?’…Next

 

Read More:

मुकेश अंबानी के बच्चे 5 रूपए पॉकेटमनी लेकर जाते थे स्कूल, पत्नी नीता को रेड लाइट पर कार रोककर किया था प्रपोज

सबको हंसाते-हंसाते वोट लूट ले गए कॉमेडियन वोलोदीमीर ज़ेलेंस्की, जीता यूक्रेन में राष्ट्रपति चुनाव

प्रेम, पहचान, मानवता और विद्रोह को खूबसूरत अंदाज में बयां करती रवींद्रनाथ टैगोर की वो 7 कहानियां, जो आज का आईना है

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग