blogid : 26149 postid : 1082

400 किलोमीटर प्रति घंटा तक दौड़ सकती है मैग्लेव ट्रेन, अगले साल चीन लॉन्च करेगा ड्राइवरलेस ट्रेन

Posted On: 12 Mar, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

266 Posts

1 Comment

टेक्नोलॉजी के मामले में चीन को काफी आगे माना जाता है। ऐसे में दुनिया की नजरें चीन पर टिकी रहती हैं। इस बार भी चीन एक बार फिर से सुर्खियों में है चीन ने 2020 तक 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली चालक रहित मैग्लेव ट्रेन चलाने की योजना तैयार की है। ट्रेन तैयार करने में जुटी सीआरआरसी जुंगझो लोकोमोटिव कंपनी का कहना है कि परिचालन शुरू होने के बाद यह चीन की सबसे तेज कमर्शियल मैग्लेव ट्रेन होगी। मैग्लेव ट्रेन 600 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार हासिल कर सकती है। अधिकतम गति होने पर ट्रेन जमीन से 10 सेमी ऊपर उठ जाती है।

 

 

29 हजार किलोमीटर लंबा रेल नेटवर्क
चीन अभी तक 29 हजार किमी लंबा रेल नेटवर्क तैयार कर चुका है। देश के भीतर उसके पास विभिन्न शहरों को जोड़ने वाला 22 हजार किमी लंबा रेल नेटवर्क है। यह विश्व में सबसे बड़ा है। चीन इस पर 350 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन चला सकता है। फिलहाल चीन बुलेट ट्रेन की अपनी तकनीक के निर्यात की योजना पर काम कर रहा है।

क्या है मैग्लेव ट्रेन प्रोजेक्ट
मैग्नेटिक (चुंबकीय) लेविएशन को मैग्लेव और मैग्नेटिक सस्पेंशन के नाम से भी जाना जाता है। इसमें कोई भी चीज केवल मैग्नेटिक फील्ड के सहारे एक जगह से दूसरी जगह पर जाती है। उसे किसी भी तरह की गति देने के लिए मैग्नेटिक फोर्स का ही इस्तेमाल किया जाता है। जुंगझो लोकोमोटिव कंपनी के चेयरमैन जू किंग्च का कहना है कि नई तकनीक का इस्तेमाल ट्रेन को तीव्र गति देने के लिए किया गया है। चुंबकीय शक्ति होने की वजह से पहाड़ी इलाकों में ट्रेन को अतिरिक्त शक्ति मिलेगी। इस ट्रेन में ताकतवर दिमाग भी है। इससे यह ट्रेन अपने आप से सुरक्षित व भरोसेमंद यात्रा को सुनिश्चित कर सकेगी।

 

जापान और दक्षिण कोरिया के पास है मैग्लेव तकनीक
मैग्लेव तकनीक फिलहाल चीन के अतिरिक्त जापान और दक्षिण कोरिया के पास है। चीन का पहला मैग्लेव सिस्टम 2002 में तैयार किया गया था। यह 30 किमी के दायरे में है और शंघाई एयरपोर्ट को सिटी सेंटर से जोड़ता है। इस ट्रैक पर ट्रेन अधिकतम 400 किमी प्रति घंटे की गति से दौड़ सकती है।….Next

 

 

Read More :

RBI के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन को पढ़ाने वाले वो प्रोफेसर जिनकी जिंदगी है एक मिसाल, सारी सुविधाएं छोड़कर रहते हैं जंगल में

नेशनल वोटर डे : भारत में ज्यादातर मतदाता नहीं जानते ये अहम नियम

किसी होटल जैसा दिखेगा ये स्मार्ट पुलिस स्टेशन, ये होगी खास बातें

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग