blogid : 26149 postid : 1539

मेट्रो के प्लेटफॉर्म पर क्यों बनी होती है पीली लाइन, कहीं आप उसका गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहे!

Posted On: 21 Jun, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

261 Posts

1 Comment

दिल्ली की लाइफलाइन कही जाने वाली ‘दिल्ली मेट्रो’ ने बहुत ही कम समय में लोगों के दिलों में जगह बनाई है। सुरक्षित और किफायती होने के कारण यह दिल्ली में सबसे पसंदीदा पब्लिक ट्रांसपोर्ट है। इसकी सुविधाओं को देखते हुए इसमें हर कोई सफर करना चाहता है, लेकिन ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो आप मेट्रो में सफर करते हुए ध्यान नहीं दे पाते, जैसे मेट्रो स्टेशन पर पीली लाइन!
अगर आप मेट्रो में सफर करते हैं तो आपने इस पीली लाइन पर ध्यान दिया होगा, जो अलग-अलग दिशा में जा रही होती है। क्या आप जानते हैंं इस रेखा का क्या मतलब है और यह क्यों बनाई जाती है? अगर नहीं, तो आइए जानते हैं।

 

 

 

पीली लाइन का क्या है मतलब ?
जब भी आप मेट्रो में चढ़ने वाली कतार में खड़े रहते हैं, उस वक्त अक्सर यह आवाज सुनाई देती है ‘कृप्या पीली लाइन से पीछे खड़े हों’, यह बात केवल सुरक्षा कारणो से नहीं बोली जाती बल्कि इसके पीछे एक और कारण है। यह नेत्रहीन लोगों के लिए बोली जाती है। उनकी सुरक्षा और मदद के लिए यह कदम उठाया गया है ताकि वह अपने सफर का मजा ले सकें।

 

क्या कहती है पीली टाइल्स?
जब भी हम मेट्रो से निकलते हैंं उस वक्त हमें मोटी और हल्की चौड़ी पीली कलर की टाइल्स दिखाई देती है, जो हर मेट्रो स्टेशन पर बिछी होती है। इससे भी उन लोगों को फायदा होता है जो नेत्रहीन होते हैं। वह अपने छड़ी के सहारे से अपने रास्ते का पता लगा पाते हैं।

 

 

 

विकलांग यात्रियों के लिए
मेट्रो में हर दिन लाखोंं लोग सफर करते हैं और सबकी सुरक्षा तथा यातायात का ख्याल रखा जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि दिल्ली मेट्रो भारत की पहली ऐसी सार्वजनिक सेवा है जिसमें विकलांग यात्रियों के लिए कई सारी सुविधाएं हैंं, ताकि वह अपने सफर को आरामदायक बना सके। अगर आप भी आजतक इस पीली लाइन का मतलब नहीं समझते थे ,तो आगे से सफर के दौरान इस बात को ध्यान रखें। साथ ही इस लाइन पर खुद ना चले, उन लोगों को चलने देंं जिन्हें इसकी जरूरत है।…Next

 

 

Read More :

24 घंटे में इस गाने को मिले 5 करोड़ से ज्यादा व्यूज, गंगनाम स्टाइल का तोड़ा रिकॉर्ड

जिन लोगों के लिए 16 सालों तक अनशन पर रही इरोम शर्मिला, वही उनकी प्रेम कहानी के ‘विलेन’ बन गए

भारतीय मूल के बिजनेसमैन ने एक साथ खरीदी 6 रोल्स रॉयस कार, चाबी देने खुद आए रोल्स रॉयस के सीईओ

 

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग