blogid : 26149 postid : 1413

देश और कविताओं से प्रेम करने वाला वो क्रांतिकारी जो फांसी पर चढ़ने से पहले शायरी गुनगुनाता रहा

Posted On: 11 Jun, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

244 Posts

1 Comment

‘शहीदों की चिताओं पर हर बरस लगेंगे मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशा होगा’
देश की आजादी के लिए अनगिनत क्रांतिकारियों ने अपना बलिदान दिया है, जिनका आभार व्यक्त करने के लिए कोई भी शब्द काफी नहीं हो सकता लेकिन उनकी कुर्बानियों को हमेशा याद रखकर हम कड़ी मेहनत से हासिल की गई आजादी का सम्मान जरूर कर सकते हैं। आज के दिन क्रांतिकारी राम प्रसाद बिस्मिल का जन्म हुआ था। भारत को आजादी दिलाने के लिए राम प्रसाद बिस्मिल के साथ अशफाक उल्ला खां और रोशन सिंह ने अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया था। आजादी के इन मतवालों को काकोरी कांड को अंजाम देने के लिए सूली पर चढ़ाया गया था। आइए, एक नजर डालते हैं आजादी के इन मतवालों के बलिदान पर-

 

 

क्या है काकोरी कांड
9 अगस्त 1925 की रात चंद्रशेखर आजाद, राम प्रसाद बिस्मिल अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और रोशन सिंह सहित कई क्रांतिकारियों ने लखनऊ से कुछ दूरी पर काकोरी और आलमनगर के बीच ट्रेन में ले जाए जा रहे सरकारी खजाने को लूट लिया था। इस घटना को इतिहास में काकोरी कांड के नाम से जाना जाता है। इस घटना ने देश भर के लोगों का ध्या न खींचा। खजाना लूटने के बाद चंद्रशेखर आजाद पुलिस के चंगुल से बच निकले, लेकिन राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और रोशन सिंह को फांसी की सजा सुनाई गई। बाकी के क्रांतिकारियों को 4 साल की कैद और कुछ को काला पानी की सजा दी गई।

 

 

क्रांतिकारियों को मिली फांसी और कालापानी की सजा
इस हमले के आरोपियों में से बिस्मिल, ठाकुर, रोशन सिंह, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी और अशफाकुल्ला खान को फांसी की सजा हो गई और सचिंद्र सान्याल और सचिंद्र बख्शी को कालापानी की सजा दी गई। राम प्रसाद बिस्मिल उन्होंने काकोरी कांड में मुख्य भूमिका निभाई थी। वे एक अच्छे शायर और गीतकार के रूप में भी जाने जाते थे। इसके अलावा भी अशफाक उल्ला खां उर्दू भाषा के बेहतरीन शायर थे। अशफाक उल्ला खां और पंडित रामप्रसाद बिस्मिल गहरे मित्र थे।

 

 

कठघरे में खड़े होकर गुनगुनाई थी शायरी
काकोरी कांड में गिरफ्तार होने के बाद अदालत में सुनवाई के दौरान क्रांतिकारी राम प्रसाद बिस्मिल ने ‘सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए-कातिल में है?’ की कुछ पंक्तियां कही थीं। बिस्मिल कविताओं और शायरी लिखने के काफी शौकीन थे। फांसी के फंदे को गले में डालने से पहले भी बिस्मिल ने ‘सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है’ के कुछ शेर पढ़े। वैसे तो ये शेर पटना के अजीमाबाद के मशहूर शायर बिस्मिल अजीमाबादी की रचना थी लेकिन इसकी पहचान राम प्रसाद बिस्मिल को लेकर ज्यादा बन गई।…Next

 

Read More :

1000 लोगों की जनसंख्या वाला दुनिया का सबसे छोटा देश, जिसे आज के दिन मिली थी पहचान

ऑपरेशन ब्लू स्टार समेत इंदिरा गांधी के इन 3 फैसलों पर भी हुआ था बवाल

बियॉन्से, मैडोना को पीछे छोड़ते हुए रिहाना बनीं दुनिया की सबसे अमीर फीमेल सिंगर, जानें टॉप-5 म्यूजिशियन की दौलत

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग