blogid : 26149 postid : 2309

कोरोना के बाद नई आफत से घिरे 13 लाख लोग, 4 लाख को छोड़ना पड़ा घर

Posted On: 13 May, 2020 Others में

Rizwan Noor Khan

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

315 Posts

1 Comment

Heavy Rainfall In East Africa : पूरी दुनिया इस समय कोरोना महामारी से जूझ रही है। पूर्वी अफ्रीका के देश भी कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। लेकिन, यहां अब नई आफत आने से 13 लाख लोगों की जान पर बन आई है। जबकि 4 लाख से ज्यादा लोगों को अपना घर छोड़कर पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा है।

 

 

 

 

भारी बारिश और तूफान ने मचाई तबाही
अफ्रीका महाद्वीप के पूर्वी हिस्से में आने वाले दर्जनों देशों के लोग कोरोना महामारी के अलावा प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे हैं। यहां मार्च महीने से हो रही लगातार बारिश से मुसीबत बढ़ गई है। इस रीजन में भीषण बारिश और आंधी तूफान ने ​40 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

 

 

 

 

13 लाख लोग बुरी तरह प्रभावित
शिन्हुआ ने यूनाइटेड नेशंस के हवाले से बताया है कि यहां ज्यादातर देशों में भारी बारिश से नदियों और झीलों में उफान आ गया है। सोमालिया, केन्या, इथियोपिया, युगांडा और बुरुंडी देशों में लोगों को सबसे ज्यादा नुकसान झेलना पड़ा है। यहां लगातार हो रही मूसलाधारी बारिश और आंधी के कारण 13 लाख लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

 

 

 

 

4 लाख को छोड़ना पड़ा घर
रिपोर्ट में बताया गया है कि दर्जन भर से ज्यादा देश तेज आंधी बारिश से प्रभावित हैं। तेज बहाव के कारण बड़े स्तर पर लैंडस्लाइड हुई है। रिपोर्ट के अनुसार इन देशों के तकरीबन 481000 लोगों के घर तबाह हो गए और इन्हें दूसरी सुरक्षित जगहों पर पनाह लेनी पड़ी है।

 

 

 

जलस्तर के सारे रिकॉर्ड टूटे
युगांडा की विक्टोरिया झील का जलस्तर 1964 के बाद अपने हाई लेवल पर रिकॉर्ड किया गया है। वहीं, बुरुंडी देश की रुसिजी नदी दो हफ्तो में दो बार उफना चुकी है। इससे हजारों लोग प्रभावित हो गए हैं। सोमालिया के 27 जिलों में बाढ़ से बुरे हाल हैं। इसी तरह पश्चिमी केन्या और रवांडा में हालात बदतर हो गए हैं।…NEXT

 

 

Read more:

लॉकडाउन में बेटे को सब्जी लेने भेजा तो बीवी लेके लौटा, जानिए फिर क्या हुआ

खाली समय में घर पर बना डाला हेलीकॉप्टर, टू सीटर है लकड़ी से बना एयरक्राफ्ट

फेसबुक पर तैर रहीं 4 करोड़ फेक न्यूज! मार्क जुकरबर्ग ने चेतावनी लेबल लगाया

दौड़ते समय टूटा पैर फिर भी 8 घंटे रेंगकर पहुंचा रेसर, डॉक्‍टरों ने बचा ली जान

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग