blogid : 26149 postid : 1920

ज्वालामुखी की राख के नीचे बसे हैं 10वीं सदी के ये मंदिर, यहां 500 से ज्यादा स्मारक है मौजूद

Posted On: 18 Sep, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

266 Posts

1 Comment

यूँ तो मंदिर जैसे धार्मिक स्थल पर जाना सबको पसंद होता है, चाहे कोई इंसान पूजा करे या न करे, पर कुछ मंदिरों की बनावट, नक्काशी और कलाकृति सब लोगों को रिझा लेती हैंं और लोग संस्कृति को दर्शाने वाले ऐसे पवित्र स्थलों पर अनायास ही खींचे चले आते हैं। इसी तरह ‘जावा’ के आइलैंड पर बसी ‘जोग्यकर्ता’ नाम की जगह इंडोनेशिया का सांस्कृतिक केंद्र बिंदु माना जाती है। बौद्ध, हिन्दू और इंडोनेशिया के पारम्परिक धर्म को दर्शाते ‘बोरोबुदूर’ और ‘प्रम्बनन’ के मंदिर विभिन्नता के मिश्रण को प्रस्तुत करते जो इंडोनेशिया के साथ-साथ विदेशी पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। विश्वभर के प्राचीन मंदिरों में बोरोबुदूर और प्रम्बनन के मंदिर सबसे अधिक प्रसिद्ध-

 

 

प्रम्बनन के हिन्दू मंदिर 10 शताब्दी पुराने हैं जिनको देखने के बाद पता लग जाता है कि यह मंदिर सम्पूर्ण रूप से भगवान शिव को समर्पित हैं। 9वीं सदी में बने बोरोबुदूर के यह बौद्ध मंदिर इंडोनेशिया का सबसे बड़ा पवित्र तीर्थ स्थल माना जाता है, जिसमें पाँच चौकोर आधारों की श्रृंखला बनी है जिसके ऊपर की 3 गोलाकार छतों पर 72 स्तूप बने हुए हैं।

 

 

इसमें ज्वालामुखी की राख के बने लगभग 20 लाख पत्थर मौजूद हैं, जिनकी ऊँचाई पर चढ़कर पत्थरों की नक्काशी और 504 बुद्ध की मूर्तियों का अद्भुत नज़ारा मनमोहक होता है। बोरोबुदूर के यह मंदिर ज्वालामुखी की राख के नीचे हज़ारों सालों तक अज्ञात रहे। वर्षों तक किसी भी इंसान ने यहाँ के मंदिर परिसर में पैर नहीं रखा।

 

borobudur-templ

 

ब्रिटिश गवर्नर सर स्टैमफोर्ड ने 1814 में राख और पेड़ पत्तियों के नीचे दबे इन मंदिरोंं को खोजा और यूनेस्को ने इनका पुन नवीनीकरण कराया। 20 सदी के अंत में इनको ‘वर्ल्ड हेरिटेज साइट’ घोषित कर दिया गया। इस मंदिर परिसर में 500 से अधिक स्मारक मौजूद हैं, जिनमेंं से कुछ का पुनर्निर्माण हो चुका है और बाकी आज भी मलबे के रूप में वहाँ पर मौजूद है, जिनको पुरात्तव संबंधी जानकारी और आँकड़े एकत्र करने के उद्देश्य से पर्यटकों के लिए निषेध रखा गया है। यहाँ मौजूद कुछ स्तूप और स्मारक जीर्ण अवस्था में है जिसके कारण एक बार में केवल 15 लोगों को भीतर जाने की अनुमति होती है, उनके बाहर आने के बाद ही दूसरे लोग प्रवेश पा सकते हैं…Next

 

 

Read More :

24 घंटे में इस गाने को मिले 5 करोड़ से ज्यादा व्यूज, गंगनाम स्टाइल का तोड़ा रिकॉर्ड

जिन लोगों के लिए 16 सालों तक अनशन पर रही इरोम शर्मिला, वही उनकी प्रेम कहानी के ‘विलेन’ बन गए

टेलीफोन का आविष्कार करके अपनी गर्लफ्रैंड को अमर कर गए ग्राहम बेल, आज ही के दिन 1881 में छुआ था एक और मुकाम

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग